Gujarat Exclusive > यूथ > रैना और रंधावा कर रहे थे नाइट कर्फ्यू में पार्टी, हिरासत में लेने के बाद मिली जमानत

रैना और रंधावा कर रहे थे नाइट कर्फ्यू में पार्टी, हिरासत में लेने के बाद मिली जमानत

0
313

मुंबई पुलिस ने अंधेरी के एक बड़े क्लब में छापा मारा, जहां से पुलिस ने कई हाई प्रोफाइल सेलिब्रेटिज को हिरासत में लिया है. इसमें टीम इंडिया के पूर्व क्रिकेटर सुरेश रैना (Suresh Raina) भी शामिल हैं. सूत्रों के मुताबिक, मुंबई में नाइट कर्फ्यू के उल्लंघन मामले में रैना (Suresh Raina) को पंजाबी सिंगर गुरु रंधावा के साथ हिरासत में लिया गया. हालांकि बाद में इन्हें बेल पर रिहा भी कर दिया गया.

मुंबई में रैना (Suresh Raina) के खिलाफ इस मामले में एफआईआर भी दर्ज कराई गई है. मुंबई पुलिस ने एक क्लब में रेड डाली, जिसमें करीब 34 लोग पार्टी कर रहे थे. रैना (Suresh Raina) और गुरु रंधावा गिरफ्तार करने के बाद बेल पर रिहा कर दिया गया. बता दें कि रैना इन दिनों भारतीय टीम से बाहर चल रहे हैं. वह आईपीएल में पारिवारिक कारणों का हवाला देकर लौट आए थे.

यह भी पढ़ें: 22 दिसंबर से SVP अस्पताल में शुरू होगा गैर कोरोना मरीजों का इलाज

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सुजैन खान और बादशाह भी इन 34 लोगों में शामिल थे. इन सभी पर कोरोना वायरस नियम तोड़ने का आरोप लगा है. पुलिस ने कोरोना वायरस के नियमों को तोड़ने को लेकर केस दर्ज किया गया है. मालूम हो कि महाराष्ट्र के शहरी इलाकों में नाइट कर्फ्यू की घोषणा की गई है.

पिछले दरवाजे से भागे कई सेलिब्रेटिज

हालांकि जब पुलिस ने छापा मारा तो कई बड़े सेलिब्रेटिज वहां से पीछे के दरवाजे से निकल गए. इस पार्टी में कई बॉलीवुड कलाकार और खिलाड़ी शामिल थे. सूत्रों के मुताबिक, रात करीब तीन बजे मुंबई पुलिस ने अंधेरी के एक बड़े क्लब ड्रैगन फ्लाई पर छापा मारा. क्लब में पार्टी चल रही थी, जिसमें कई कलाकार और खिलाड़ी मौजूद थे. सूत्रों का कहना है कि इस पार्टी में क्रिकेटर सुरेश रैना (Suresh Raina) भी मौजूद थे और रैना पर केस भी दर्ज किया गया है. इसके अलावा रैपर बादशाह भी इस पार्टी में शामिल थे. बादशाह भी पीछे के दरवाजे से भाग निकले.

फिलहाल पुलिस ने 34 लोगों को हिरासत में लिया. पुलिस ने जानकारी देते हुए बताया कि इस पार्टी में 19 लोग दिल्ली और पंजाब से आए थे. पार्टी में दिल्ली, पंजाब के अलावा साउथ मुंबई से भी लोग आए थे. पुलिस ने कुल 27 कस्टमर और 7 कर्मचारियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 188 और 269 के साथ ही महामारी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें