Gujarat Exclusive > यूथ > 2020 टी-20 विश्व कप स्थगित, कोरोना के कारण ICC ने किया फैसला

2020 टी-20 विश्व कप स्थगित, कोरोना के कारण ICC ने किया फैसला

0
413

2020 में होने वाले टी-20 विश्व कप को लेकर काफी समय से उफोओह की स्थिति बनी हुई थी. अब इसके आयोजन को लेकर स्थिति स्पष्ट हो गई है. कोरोना वायरस की वजह से इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) ने इस साल ऑस्ट्रेलिया में अक्टूबर में होने वाले टी-20 विश्व कप को टालने का फैसला किया है. अब वर्ल्ड कप का आयोजन अगले साल अक्टूबर नवंबर में होगा.

तमाम अटकलबाजियों के बीच सोमवार को हुई आईसीसी की बोर्ड मीटिंग में विश्व कप को टालने का फैसला लिया गया. विश्व कप के रद्द होने के साथ ही इंडियन प्रीमियर लीग के 13वें सीजन के आयोजन के लिए रास्ता साफ हो गया है. बीसीसीआई सितंबर के आखिरी हफ्ते में आईपीएल 13 का आयोजन कर सकती है.

 

पिछले दो महीने से ही विश्व कप का आयोजन इस साल नहीं होने के कयास लगाए जा रहे थे. विश्व कप की मेजबानी का अधिकार रखने वाले क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने हाल ही में संकेत दिए थे कि वह आयोजन के लिए तैयार नहीं है. पिछले कुछ दिनों में ऑस्ट्रेलिया में कोरोना वायरस के मामलों में तेजी देखने को मिली है. इसके अलावा सितंबर के अंत तक ऑस्ट्रेलिया ने अपने बॉर्डर भी सील कर रखे हैं. ऐसे हालातों में उसके लिए विश्व कप की मेजबानी कर पाना मुश्किल नजर आ रहा था.

आईपीएल के लिए खुले रास्ते

विश्व कप के रद्द होने की वजह से बीसीसीआई के लिए आईपीएल के आयोजन का रास्ता साफ हो गया है. बीसीसीआई पहले ही सितंबर से नवंबर के बीच आईपीएल के आयोजन की तैयारी कर रहा था. हालांकि विश्व कप पर आधिकारिक एलान नहीं होने की वजह से बीसीसीआई ने आईपीएल का नया कार्यक्रम अब तक जारी नहीं किया. ऐसी खबरें सामने आ रही हैं कि बीसीसीआई सितंबर के आखिरी हफ्ते से लेकर नवंबर के पहले हफ्ते के बीच आईपीएल का आयोजन कर सकता है.

यूएई और श्रीलंका में हो सकता है आयोजन

हालांकि अभी स्थिति स्पष्ट नहीं है कि अगर आईपीएल का आयोजन होता है तो उसकी मेजबानी कौन करेगा. ये करीब-करीब पहले ही तय हो चुका है कि भारत में मौजूदा हालातों में आईपीएल का आयोजन कर पाना मुश्किल है. ऐसे में बीसीसीआई कुछ विकल्पों पर विचार कर रहा है. इन विकल्पों में सबसे आगे यूएई है जबकि श्रीलंका को भी एक विकल्प के रूप में देखा जा रहा है.

गुजरात में 50 हजार के करीब पहुंची कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या