Gujarat Exclusive > गुजरात > तक्षशिला अग्निकांड: 9 महीने के बाद पुलिस के हाथों लगा बिल्डर, 22 बच्चों की हुई थी मौत

तक्षशिला अग्निकांड: 9 महीने के बाद पुलिस के हाथों लगा बिल्डर, 22 बच्चों की हुई थी मौत

0
649

पिछले साल डायमंड सिटी के नाम से मशहूर सूरत के तक्षशिला आर्केड में भयानक आग लगने की वजह से वहीं 22 बच्चों की मौत हो गई थी. पुलिस ने इस हादसे को लेकर मामला दर्ज करते हुए अभी तक 13 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है. लेकिन जिस ट्यूशन क्लास में आग लगी थी उसके मालिक दिनेश कांजी वेकरिया को सूरत क्राइम ब्रांच ने सलाबतपुरा से गिरफ्तार कर लिया है. आरोपी पिछले 8 महीने से फरार था. जिसे गिरफ्तार करने के लिए पुलिस की अलग-अलग टीम बनाई गई थी.

मिल रही जानकारी के अनुसार पुलिस के हाथों गुप्त सूचना लगी थी कि वेकरिया सलाबतपुरा स्थित आंजणा फार्म में छिपा हुआ है. जिसके बाद पुलिस ने फौरन कार्रवाई करते हुए धर दबोचा. गिरफ्तार करने के बाद आरोपी से पुलिस पूछताछ कर रही है. तक्षशिला अग्निकांड में कोर्ट में 4275 पन्नों की चार्जशीट पेश की गई. चार्जशीट में 251 लोगों को साक्षी बनाया गया.

गौरतलब हो कि 24 मई 2019 को तक्षशिला आर्केड में स्मार्ट डिजाइन स्टूडियो नाम से ट्यूशन क्लासेस में आग लगने की वजह से 22 बच्चों की जलने की वजह से मौत हो गई थी. वहीं 19 बच्चे आग लगने की वजह से झुलस गए थे. इस मामले में क्लास चलाने के लिए जगह किराए पर देने वाले, गैर कानूनी तरीके से कंस्ट्रक्शन करने वाले, फायर ऑफिसर, अवैध बिजली कनेक्शन की जांच नहीं करने वाले और कई अन्य लोगों की गैर जिम्मेदाराना कामकाज सामने आया था.