Gujarat Exclusive > देश-विदेश > तेलंगाना में कोरोना मरीजों के लिए प्राइवेट अस्पतालों का शुल्क तय

तेलंगाना में कोरोना मरीजों के लिए प्राइवेट अस्पतालों का शुल्क तय

0
1552

देश में बढ़ते कोरोना के मामलों के बीच वायरस के टेस्ट की शुल्क को लेकर भी विवाद देखने को मिला है. कई राज्यों में प्राइवेट अस्पताल अपने हिसाब से कोरोना के मरीजों से स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए मनमानी कीमत वसूल रहे हैं. इस बीच तेलंगाना सरकार ने राज्य में कोविड-19 के बढ़ते मामलों के मद्देनजर अब निजी अस्पतालों और लैब्स में कोरोना वायरस की टेस्टिंग करवाने का फैसला लिया है. साथ ही तेलंगाना में प्राइवेट अस्पतालों और लैबों में कोरोना टेस्ट की शुल्क को तय कर दिया है.

सरकार ने जो शुल्क तय किया है उसके मुताबिक प्राइवेट लैब टेस्टिंग का 2200 रुपए ही ले सकते हैं. 4000 रुपये आइसोलेशन जबकि 7500 रुपये बिना आईसीयू या वेंटिलेटर वाले कमरे का चार्ज होगा. वेंटिलेटर के साथ बेड का 9000 रुपये ही अब ले पाएंगे. इससे ज्यादा चार्ज करने पर सरकार सख़्त कार्रवाई करेगी.

मुख्यमंत्री ने प्रगति भवन में वरिष्ठ अधिकारियों के साथ कोरोना और अन्य मुद्दों पर समीक्षा बैठक करने के बाद यह फैसला लिया. राज्य में अब निजी अस्पतालों और लैब्स को कोरोना टेस्टिंग व इलाज की अनुमति दे दी गई है. सरकार ने इसके लिए शुल्क और गाइडलाइन्स भी जारी कर दी है. सरकार ने सख्त शब्दों में कहा है कि सरकार द्वारा दी गई गाइडलाइंस के मुताबिक ही प्राइवेट अस्पताल और लैब चार्ज कर सकते हैं. इससे ज्यादा चार्ज करने पर अस्पताल या लैब के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

मालूम हो कि तेलंगाना में दूसरे राज्यों की अपेक्षा कोरोना संक्रमितों की स्थिति स्थिर है. हालांकि पिछले 24 घंटे में वहां 237 नए मामले आए हैं जिससे राज्य में कुल मामलों की संख्या 4974 हो गई है. वहीं कोरोना के कारण अब तक तेलंगाना में 185 लोगों की मौत हुई है जिसमें से तीन की मौत बीते 24 घंटे में दर्ज की गई है.

तमिलनाडु के 4 जिलों में 19 से 30 जून तक सख्त लॉकडाउन का ऐलान