Gujarat Exclusive > देश-विदेश > कोरोना वायरस को लेकर उड़ी अफवाह, तेलंगाना के मंत्रियों को सबके सामने खाना पड़ा चिकन

कोरोना वायरस को लेकर उड़ी अफवाह, तेलंगाना के मंत्रियों को सबके सामने खाना पड़ा चिकन

0
351

चीन में कोरोना वायरस का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा है. चीन में कोरोना वायरस से होने वाली मौतों का आंकड़ा अब बढ़कर 2,788 हो गया है. बेशक भारत में कोरोना वायरस के मामले सामने ना आए हों लेकिन तरह-तरह की अफवाहें जरूर फैलाई जा रही हैं. कोरोना वायरस को लेकर तेलंगाना में भी अफवाहों का बाजार गर्म है.

तेलंगाना में लोगों ने अफवाह फैलाई है कि चिकन और अंडा खाने से कोरोना वायरस फैल रहा है. यह अफवाह इस हद तक फैल गई कि तेलंगाना के मंत्रियों को इस अफवाह को दूर करने के लिए उतरना पड़ा. मंत्रियों ने अफवाह दूर करने के लिए मंच से चिकन खाया और कहा कि कोरोना वायरस चिकन और अंडा खाने से नहीं फैलता है.

तेलंगाना के मंत्री केटी राम राव, एटेला राजेंद्र, तलासनी श्रीनिवास यादव और कई अन्य मंत्रियों ने हैदराबाद में शुक्रवार को मंच पर सामूहिक रूप से चिकन खाया. कोरोना वायरस चिकन या अंडे खाने से बिलकुल भी नहीं फैलता, न ही कोरोना का मुर्गियों से कोई संबंध है. दरअसल यह बातें उन्होंने चिकन एंड एग मेला के एक आयोजन में कहीं. पॉल्ट्री उद्योग कोरोना वायरस पर फैली अफवाहों से बुरी तरह से प्रभावित है. बिजनेस को ट्रैक पर लाने के लिए शुक्रवार को हैदराबाद के नेकलस रोड स्थित पीपल्स प्लाजा में चिकन-एग मेला आयोजित किया गया था. यहां कोरोना वायरस पर लोगों ने जागरूकता भी फैलाई.

अफवाहों का सरकार ने किया खंडन

दावा किया जा रहा था कि कोरोना वायरस की वजह से पोल्‍ट्री चिकन खाना खतरनाक है. इन अफवाहों पर केंद्र सरकार को भी खंडन करना पड़ा था. भारत सरकार के पशुपालन मंत्री गिरिराज सिंह ने साफ किया था कि किसी भी मनगढ़ंत सूचनाओं पर ध्यान ना दें क्‍योंकि पोल्ट्री उत्पादों का कोरोना वायरस से कोई भी संबंध नहीं है. ये चिकन पूरी तरह सुरक्षित है.

मक्का-मदीना की यात्रा पर पड़ा असर

कोरोना वायरस का असर मुस्लिम समाज की सबसे महत्वपूर्ण व पवित्र मक्का मदीना की यात्रा पर भी पड़ गया है. सऊदी सरकार ने कोरोना वायरस के डर से उमरा व जियारत पर रोक लगा दी है. इसकी जानकारी भारतीय हज कमेटी के माध्यम से दी गई है. इस्लाम के पांच फर्जों में हज भी शामिल है. मुस्लिम समुदाय के लोगों को जीवन में कम से कम एक बार हजयात्रा जरूर करना पड़ती है। हजयात्रा पर जाने से पहले अधिकतर उमरा(मिनी हज) पर मक्का मदीना जाते हैं. इसमें करीब 20 से 25 दिन वहां रहा जाता है. सऊदी सरकार ने कोरोना वायरस फैलने के डर से पर्यटक वीजा पर पाबंदी लगा दी है. खादीमुल हुज्जाज हाजी अब्दुल हक ग्वालियर ने बताया कि पर्यटन वीजा पर रोक लगाई है, इसलिए लोग फिलहाल उमरा का इरादा त्याग दें. हज के लिए कार्रवाई विधिवत जारी रहेगी जिन लोगों ने हज का फार्म भरा है वह हज कमेटी के निर्देश अनुसार फीस जमा करने व दूसरी जानकारी ऑनलाइन जैसी चाही गई है भेजे. मालूम हो कि केरल से करीब 10000 लोगों का हज कमेटी ने हज यात्रा को वीजा पास किए थे लेकिन अब उनके लिए यह यात्रा आसान नहीं होगी.