Gujarat Exclusive > राजनीति > 29 दिन के भीतर ध्वस्त हो गया पुल, तेजस्वी का तंज- खबरदार! अगर किसी ने भ्रष्टाचार कहा तो?

29 दिन के भीतर ध्वस्त हो गया पुल, तेजस्वी का तंज- खबरदार! अगर किसी ने भ्रष्टाचार कहा तो?

0
721

कोरोना संटक के बीच बिहार दोहरी मार से परेशान है. इस बीच बारिश की वजह से आने वाली बाढ़ ने बिहार की विकास का दावा करने वाले नीतीश सरकार के भ्रष्टचार के पर्दे पर भी पानी फेर दिया है. दरअसल बिहार के गोपालगंज में बने पुल को मात्र 29 पहले बिहार के मुखिया ने उद्घाटन किया था लेकिन तेज बारिश और बाढ़ की वजह से पुल ने दम तोड़ दिया और धराशायी हो गया. इस मामले को लेकर बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी ने तंज कसा है.

उन्होंने अपने ट्विटर अकाउंट पर इस पुल का वीडियो शेयर करते हुए लिखा- 8 वर्ष में 263.47 करोड़ की लागत से निर्मित गोपालगंज के सत्तर घाट पुल का 16 जून को नीतीश जी ने उद्घाटन किया था आज 29 दिन बाद यह पुल ध्वस्त हो गया. ख़बरदार!अगर किसी ने इसे नीतीश जी का भ्रष्टाचार कहा तो? 263 करोड़ तो सुशासनी मुँह दिखाई है. इतने की तो इनके चूहे शराब पी जाते है.

माना जा रहा है कि 29 दिनों के भीतर नदी में समा जाने वाले पुल की वजह से चंपारण, सारण जैसे कई जिलों का संपर्क टूट गया है. बिहार में भारी बारिश की वजह से कई जगहों पर सड़क टूट जाने से लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. इतना ही नहीं सड़क टूट जाने से छपरा, सीवान, गोपालगंज जिलों से मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, सीतामढ़ी, शिवहर, दरभंगा की ओर आने-जाने वाले वाहनों का परिचालन ठप हो गया है.

मात्र 29 दिनों के भीतर दम तोड़ने वाले पुल का एक अन्य फोटे शेयर कर राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजस्वी यादव ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट लिखा- 263 करोड़ से 8 साल में बना लेकिन मात्र 29 दिन में ढ़ह गया पुल. संगठित भ्रष्टाचार के भीष्म पितामह नीतीश जी इस पर एक शब्द भी नहीं बोलेंगे और ना ही साइकिल से रेंज रोवर की सवारी कराने वाले भ्रष्टाचारी सहपाठी पथ निर्माण मंत्री को बर्खास्त करेंगे. बिहार में चारों तरफ लूट ही लूट मची है.

पूरी दुनिया में कोरोना का आतंक, पहले पायदान पर अमेरिका