Gujarat Exclusive > राजनीति > कपिल सिब्बल के नए ट्वीट से मचा घमासान, कहा- पद नहीं देश सबसे अहम

कपिल सिब्बल के नए ट्वीट से मचा घमासान, कहा- पद नहीं देश सबसे अहम

0
519

तमाम वाद-विवादों के बाद आखिरकार कांग्रेस की वर्किंग कमेटी ने फैसला किया है कि सोनिया गांधी पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष बनी रहेंगी.

लेकिन अगले छह महीने के भीतर कांग्रेस के नए अध्यक्ष का चयन किया जाएगा.

सोमवार को होने वाली इस अहम बैठक में मचे सियासी घमासान के बाद साफ हो गया कि देश की सबसे पुरानी पार्टी अब धीरे-धीरे दो गुटों में बंटती हुई नजर आ रही है.

कपिल सिब्बल के नए ट्वीट से मचा सियासी घमासान

बैठक में कांग्रेस के 23 वरिष्ठ नेताओं द्वारा सोनिया गांधी को लिखा गया खत ही सबसे ज्यादा अहम रहा.

माना जा रहा है कि इस खत के टाइमिंग पर राहुल गांधी ने सवाल खड़ा किया था और खत लिखने वालों पर भाजपा के साथ सांठगांठ का आरोप लगाया था.

जानकारी मिलने के बाद कांग्रेस के दो वरिष्ठ नेताओं ने पार्टी के खिलाफ बोलना शुरू कर दिया कपिल सिब्बल ने तो यहां तक कह डाला कि 30 सालों से पार्टी से वफादारी करने के बावजूद भी आज भाजपा के साथ सांठगांठ का आरोप लग रहा है.

वहीं गुलाम नबी आजाद ने भी इस मामले को लेकर अपनी सफाई देते हुए कहा था कि अगर ये साबित हो जाता है कि पत्र लिखने में कहीं भी भाजपा का सांठगांठ सामने आता है तो वह इस्तीफा दे देंगे.

यह भी पढ़ें: बगावती पत्र लिखे जाने पर नाराज राहुल गांधी, भाजपा से सांठगांठ का आरोप

राहुल से बात होने के बाद हटा लिया था ट्वीट

हालांकि राहुल गांधी से बातचीत होने के बाद कपिल सिब्बल ने अपने पुराने ट्वीट को हटा दिया था. लेकिन उन्होंने आ एक अन्य ट्वीट कर नया सियासी घमासान मचा दिया है.

उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि “यह किसी पद की बात नहीं है. यह मेरे देश की बात है जो सबसे ज्यादा जरूरी है.” उनके इस ट्वीट से सियासी पंडित अपने-अपने तरीके से मायने निकाल रहे हैं.

लेकिन इस बीच कांग्रेस से निलंबित हो चुके संजय झा ने भी चुटकी लेते हुए कहा कि यह अंत की शुरूआत है.

राहुल गांधी ने खत के टाइमिंग पर खड़ा किया था सवाल

कांग्रेस वर्किंग कमेटी में पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पार्टी नेतृत्व में बदलाव की मांग को लेकर लिखे गए पत्र के टाइमिंग पर सवाल खड़ा किया है.

उन्होंने कहा कि पार्टी जब मध्य प्रदेश और राजस्थान में पैदा हुए सियासी संकट का सामना कर रही थी और अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी बीमार चल रही थी.

ऐसे वक्त पर क्यों लिखा गया इतना ही नहीं उन्होंने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि पत्र मीडिया में कैसे पहुंच गया.

उन्होंने पत्र के लिखे जाने पर बीजेपी के सांठगांठ का भी आरोप लगाया.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

RSS के निशाने पर आमिर खान, कहा-तुर्की दौरा कर भारतियों के जज्बात को दिखा रहे ठेंगा