Gujarat Exclusive > गुजरात > सूरत में थमने का नाम नहीं ले रहा प्रवासी मजदूरों का हंगामा, 3 दिनों में चौथी बार रास्ते पर उतरे

सूरत में थमने का नाम नहीं ले रहा प्रवासी मजदूरों का हंगामा, 3 दिनों में चौथी बार रास्ते पर उतरे

0
5126

कोरोना वायरस की वजह से देशभर में लॉकडाउन को 3 मई तक बढ़ा दिया गया है. गरीबों, जरूरतमंदों और प्रवासी मजदूरों को लॉकडाउन की वजह से खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ा रहा है. कई राज्यों में मजदूर और कामगार अब आक्रोशित हो रहे हैं. गुजरात के सूरत में गुरुवार को भारी तादाद में मजदूर एक बार फिर से सड़कों पर उतर आए. पांडेसरा इलाके में मजदूर हंगामा कर रहे हैं. उन्होंने मिल मालिकों पर तनख्वाह नहीं देने का आरोप लगाया है. मजदूर अपने गांव जाने की भी मांग कर रहे हैं. पुलिस मौके पर पहुंच गई है और मजदूरों को समझाने की कोशिश कर रही है.

देश में लॉकडाउन की वजह से यूपी, बिहार और ओडिशा से आए हजारों मजदूर यहां फंसे हुए हैं. ये मजदूर यहां की फैक्ट्रियों में काम करते हैं. बुधवार को भी इन लोगों ने खाने-पीने की शिकायत को लेकर हंगामा किया था. कई एनजीओ की मदद से प्रशासन ने इनके लिए खाने की व्यवस्था की हुई है.

इससे पहले मंगलवार को भी सूरत के ही वारछा क्षेत्र में बहुत से प्रवासी मजदूर सोशल डिस्टेंसिंग तोड़ते हुए सड़कों पर जमा हो गए थे. उनकी मांग थी कि उन्हें उनके गृह राज्य जाने दिया जाए. बाद में प्रशासन ने समझा-बुझाकर उन्हें वापस भेजा था.

बता दें कि मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन को 19 दिन के लिए आगे बढ़ाने का ऐलान किया था. उसके कुछ घंटों बाद मुंबई के बांद्रा रेलवे स्टेशन पर हजारों की संख्या में प्रवासी मजदूर इकट्ठा हो गए थे. यहां वे अपने-अपने घर जाने देने की मांग कर रहे थे. कुछ मजदूरों ने खाने-पीने की शिकायत को लेकर हंगामा किया था.

कोरोना के चपेट में AMC सहायक आयुक्त, निगम के अन्य अधिकारियों में खौफ