Gujarat Exclusive > राजनीति > टीएमसी में टूट का सिलसिला जारी, शुभेंदु अधिकारी के भाई सौमेंदु भी भाजपा से जुड़े

टीएमसी में टूट का सिलसिला जारी, शुभेंदु अधिकारी के भाई सौमेंदु भी भाजपा से जुड़े

0
302

पश्चिम बंगाल में आगामी विधानसभा चुनाव से पहले तृणमूल कांग्रेस (TMC) की मुश्किलें खत्म होने का नाम नहीं रही हैं. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को भाजपा लगातार झटके दे रही है. तृणमूल कांग्रेस को छोड़कर हाल ही में भाजपा में शामिल हुए शुभेंदु अधिकारी के बाद अब उनके भाई भी भाजपा से जुड़ गए हैं. शुभेंदु अधिकारी के भाई और तृणमूल नेता सौमेंदु अनेक कार्यकर्ताओं के साथ बीजेपी में शामिल हो गए हैं.

मालूम हो कि सौमेंदु को हाल ही में कोन्टाई नगरपालिका के प्रशासक पद से हटा दिया गया था. सौमेंदु ने अपने भाई शुभेंदु की मौजदगी में पार्टी की सदस्यता हासिल की.

यह भी पढ़ें : भारत को मिली पहली कोरोना वैक्सीन, कोविशील्ड को इमेरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी

इससे पहले शुभेंदु ने पूर्व मेदिनीपुर में एक बैठक में कहा कि सौमेंदु कुछ पार्षदों और तृणमूल कांग्रेस के 5,000 कार्यकर्ताओं के साथ दिन में भगवा पार्टी में शामिल होंगे. उन्होंने दावा किया कि तृणमूल कांग्रेस (TMC) जल्द ही ढह जाएगी. उन्होंने तृणमूल कांग्रेस (TMC) के स्थापना दिवस के अवसर पर कहा कि मेरा छोटा भाई सौमेंदु कोन्टाई में शुक्रवार को बीजेपी में शमिल होगा.

ममता सरकार पर शुभेंदु साध रहे निशाना

तृणमूल कांग्रेस (TMC) छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए शुभेंदु अधिकारी लगातार ममता बनर्जी पर निशाना साध रहे हैं. शुभेंदु अधिकारी इस बात की लगातार वकालत कर रहे हैं कि बंगाल को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों में सौंपना होगा.

उनका कहना था कि जब तक कोलकाता और दिल्ली दोनों में एक ही पार्टी सत्ता में नहीं होगी, तब तक बंगाल आर्थिक रूप से विकसित नहीं होगा. शुभेंदु अधिकारी ने बीजेपी में शामिल होने के बाद कहा था कि टीएमसी में लोकतंत्र नहीं रह गया है.

शुभेंदु को मिल सकती है अहम जिम्मेदारी

एक महीने से भी कम समय पहले तृणमूल कांग्रेस (TMC) छोड़कर भाजपा में आने वाले शुभेंदु अधिकारी को भारतीय जूट निगम का अध्यक्ष बनाया जा सकता है. यदि उन्हें यह पद दिया जाता है तो उन्हें कैबिनेट मंत्री का दर्जा मिल जाएगा. वहीं भाजपा में शामिल होने से पहले उन्हें जेड श्रेणी की सुरक्षा दी गई थी.

हालांकि केंद्र सरकार ने अभी उनका बायोडाटा मांगा है, लेकिन इन बातों की जानकारी रखने वाले करीबी सूत्रों का कहना है कि उनकी नियुक्ति जनवरी में हो सकती है. टीएमसी (TMC) छोड़ने से पहले सुवेंदु बंगाल सरकार में लंबे समय तक मंत्री रहे हैं.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें