Gujarat Exclusive > देश-विदेश > ट्रैक्टर रैली में हिंसा के बाद दिल्ली के कई इलाकों में इंटरनेट सेवा बंद

ट्रैक्टर रैली में हिंसा के बाद दिल्ली के कई इलाकों में इंटरनेट सेवा बंद

0
224

किसानों ने ट्रैक्टर परेड (Tractor Rally) के दौरान दिल्ली में जमकर हंगामा किया. हिंसा की घटना के बाद सिंघु बॉर्डर, टिकरी बॉर्डर, गाजीपुर बॉर्डर, मुबारका चौक और नांगलोई में इंटरनेट की सर्विस अस्थाई तौर पर रोक दी गई है. केंद्रीय गृह मंत्रालय ने यह आदेश जारी किया है. आदेश के मुताबिक, आज रात 12 बजे तक इंटरनेट सेवा बाधित रहेगी.

ट्रैक्टर रैली (Tractor Rally) के कारण दिल्ली में कई जगहों पर मेट्रो सेवा भी बाधित हुई है. जामा मस्जिद मेट्रो स्टेशन को बंद कर दिया गया है. कहा जा रहा है कि प्रदर्शनकारी किसान (Tractor Rally) अपने नेताओं की बात भी नहीं सुन रहे हैं और बेकाबू हो गए हैं.

यह भी पढ़ें: लाल किले पर चढ़े प्रदर्शनकारी किसान, राहुल गांधी बोले- हिंसा समस्या का हल नहीं

टिकैत का आरोप

उधर किसान नेता और भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) का दावा है कि प्रदर्शन (Tractor Rally) पर अब भी किसान नेताओं का नियंत्रण है. उन्होंने कहा कि गड़बड़ी फैलाने की कोशिश करने वाली की पहचान है. राजनीतिक दलों के लोग हैं, जो आंदोलन को खराब करने की कोशिश में जुटे हैं.

योगेंद्र यादव ने जारी किया वीडियो

वहीं स्वराज अभियान के प्रमुख और किसानों के प्रतिनिधि योगेंद्र यादव (Yogendra Yadav) ने किसानों से अपील की है कि वे कोई ऐसा काम न करें जिससे किसान आंदोलन (Tractor Rally) बदनाम हो. उन्‍होंने एक वीडियो जारी कर कहा, ‘देश के किसान आंदोलन की इज्जत आपके साथ में हैं. कुछ ऐसा न हो कि किसान आंदोलन को नुकसान पहुंचे.”

लाल किले पर फहराया अपना झंडा

बता दें कि ट्रैक्टर रैली (Tractor Rally) के लिए निर्धारित मार्ग से हटकर प्रदर्शनकारी किसानों का एक समूह लालकिले में घुस गया और राष्ट्रीय राजधानी स्थित इस ऐतिहासिक स्मारक के कुछ गुंबदों पर झंडे लगा दिए.

पुलिस द्वारा आईटीओ से खदेड़े गए प्रदर्शनकारी किसानों का एक समूह अपने ट्रैक्टर (Tractor Rally) लेकर लालकिला परिसर पहुंच गया. ये प्रदर्शनकारी लालकिला परिसर में घुस गए और उस ध्वज-स्तंभ पर अपना झंडा लगाते दिखे जहां से प्रधानमंत्री 15 अगस्त को राष्ट्रीय ध्वज फहराते हैं. उन्होंने लालकिले के कुछ गुंबदों पर भी अपने झंडे लगा दिए. इससे पहले प्रदर्शनकारी किसान आईटीओ पहुंच गए और लुटियंस इलाके की तरफ बढ़ने की कोशिश की. इसपर पुलिस को लाठीचार्ज और आंसू गैस के गोलों का इस्तेमाल करना पड़ा.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें