Gujarat Exclusive > गुजरात > नर्मदा जिला के दो कैदियों ने जज से कहा, ‘सर बाहर नहीं जाना हमें जेल में ही रहना है’

नर्मदा जिला के दो कैदियों ने जज से कहा, ‘सर बाहर नहीं जाना हमें जेल में ही रहना है’

0
3209

विशाल मिस्त्री, राजपीपणा: कोरोना वायरस वैश्विक फलक पर आतंक मचा रही है. इस दौरान केंद्र सरकार इस आतंक को कम करने के लिए 21 दिनों के लंबे तालाबंदी का ऐलान किया वहीं दूसरी तरफ सुप्रीम कोर्ट की हाई पावर कमेटी ने निर्देश दिया कि सत्र न्यायालय 7 साल से कम सजा पाने वाले कैदियों को जमानत पर छोड़ने का आदेश दिया है. जिसके तहत राजपीपणा जिला में कैदियों को इन दिनों जमानत पर छोड़ा जा रहा है. लेकिन इस बीच कैदियों ने ऐसी कहानी सुनाई जिसे सुनकर जमानत देने वाले जज भी चौंक गए.

2 कैदियों ने जज से कहा कि हमारे पास कोई नहीं है, हमें बस जेल में ही रहना है

राजपीपणा जिला जेल अधीक्षक एम एल गामारा ने जानकारी देते हुए कहा कि जब 22 कैदियों को जज के सामने पेश किया गया, तो 2 कैदियों ने कहा, “सर बाहर हमारा अपना कोई नहीं. हमें जेल में ही रहने दिया जाए. इसके अलावा, उन्होंने कहा कि वर्तमान में कोरोना वायरस उन्हें बाहर मजदूरी का काम भी नहीं मिलेगा.

राजपीपला जिला जेल के अधीक्षक एम एल गामारा के अनुसार, राजपीपणा जिला जेल के 177 कैदियों में से 22 को जमानत पर रिहा कर दिया गया है. कोरोना वायरस के बढ़ते आतंक के बीच चार नए कैदी जेल में पहुंचे हैं. जेल में प्रवेश देने से पहले कैदियों को 15 दिनों के दौरे के इतिहास मांगा गया है. उसके बाद राजपीपणा सिविल अस्पताल में चेकअप के लिए भेजा गया है, इन नये कैदियों को आइसोलेशन वार्ड में 5 दिनों के लिए रखा जाएगा. तब तक रिपोर्ट भी आ जाएगी अगर निगेटिव आया तभी ही इन नये कैदियों को जेल के बैरक में रखा जाएगा.

कनिका कपूर के लिए अच्छी खबर, कोरोना वायरस की 5वीं रिपोर्ट आई निगेटिव