Gujarat Exclusive > राजनीति > उद्धव ठाकरे पर कंगना रनौत ने बोला हमला, कहा-सिर्फ एक वंशवाद का नमूना हो

उद्धव ठाकरे पर कंगना रनौत ने बोला हमला, कहा-सिर्फ एक वंशवाद का नमूना हो

0
435
  • एक बार फिर से उद्धव ठाकरे पर बरसी कंगना रनौत
  • ठाकरे को बताया वंशवाद का नमूना
  • शिवसेना को सोनिया सेना बनाने के कंगना ने उद्धव पर लगाया आरोप

बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत के मुंबई के पाली हिल इलाके में स्थित दफ्तर पर बीएमसी ने कल बुलडोजर फिरा दिया था. 24 घंटों का वक्त पूरा होने के बाद बीएमसी ने कंगना के 48 करोड़ के ऑफिस को धराशाई कर दिया था.

मुंबई पहुंची कंगना ने बीएमसी की इस कार्रवाई पर सख्त नाराजगी का इजहार किया था.

उन्होंने शिवसेना अध्यक्ष और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पर हमला बोलते हुए कहा था कि आज मेरा घर टूटा है कल तेरा घमंड टूटेगा.

ट्वीट कर बोला हमला

बीएमसी के इस कार्रवाई के बाद बौखलाई कंगना रनौत ने आज एक बार फिर से महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर हमला बोलते हुए ट्वीट किया है.

उन्होंने ट्वीट कर लिखा-“तुम्हारे पिताजी के अच्छे कर्म तुम्हें दौलत तो दे सकते हैं मगर सम्मान तुम्हें खुद कमाना पड़ता है, मेरा मुँह बंद करोगे मगर मेरी आवाज़ मेरे बाद सौ फिर लाखों में गूंजेगी, कितने मुँह बंद करोगे?

कितनी आवाज़ें दबाओगे? कब तक सच्चाई से भागोगे तुम कुछ नहीं हों सिर्फ़ वंशवाद का एक नमूना हो.”

यह भी पढ़ें: मुंबई पहुंचते ही कंगना का हमला, कहा- उद्धव ठाकरे तेरा घमंड टूटेगा

एक अन्य ट्वीट में शिवसेना को सोनिया सेना बनाने का लगाया आरोप

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने शिवसेना पर हमला बोलते हुए कहा कि “जिस विचारधारा पे श्री बाला साहेब ठाकरे ने शिव सेना का निर्माण किया था आज वो सत्ता केलिए उसी विचारधारा को बेच कर शिव सेना से सोनिया सेना बन चुके हैं, जीन गुंडों ने मेरे पीछे से मेरा घर तोड़ा उनको सिविक बॉडी मत बोलो, संविधान का इतना बड़ा अपमान मत करो”

जारी है जुबानी जंग

बता दें कि पिछले कई दिनों से कंगना और शिवसेना के बीच जुबानी जंग देखने को मिल रही है. कंगना ने कहा था कि मुंबई में उन्हें सुरक्षित नहीं महसूस होता और उन्हें मुंबई पीओके की तरह लगता है.

इसके बाद शिवसेना नेता ने उन्हें मुंबई न आने के लिए कहा था. बस यहीं से मामला बढ़ता चला गया.

अब कंगना को केंद्र सरकार ने वाई प्लस सिक्योरिटी दी है. BMC ने कंगना की ऑफिस को बुधवार को तोड़ दिया था.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

भारत-चीन के विदेश मंत्रियों के बीच होगी बैठक, सीमा विवाद पर चर्चा की उम्मीद