Gujarat Exclusive > राजनीति > महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा- मेरी खामोशी को मजबूरी न समझें

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा- मेरी खामोशी को मजबूरी न समझें

0
574
  • मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने जनता को किया संबोधित
  • कंगना मामले में साधे रखी चुप्पी
  • कहा मेरी खामोशी को बिल्कुल भी मजबूरी ना समझा जाए
  • कोरोना की वजह महाराष्ट्र को किया जा रहा है बदनाम 

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद से विवादों में घिरी महाराष्ट्र सरकार के लिए कंगना रनौत एक नई चुनौती बन गई है.

बीते कुछ दिनों से बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर लगातार हमला बोल रही है.

इस बीच आज सीएम उद्धव ठाकरे ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिय महाराष्ट्र के लोगों को संबोधित किया लेकिन उन्होंने कंगना मामले पर कुछ भी नहीं बोला.

लेकिन उन्होंने साफ कर दिया कि मेरी खामोशी को मेरी मजबूरी ना समझा जाए.

कोरोना की वजह महाराष्ट्र को किया जा रहा है बदनाम

उन्होंने जनता को संबोधित करते हुए कहा कि बीते कुछ दिनों से महाराष्ट्र कई मुश्किलों से दो चार हो रहा है महाराष्ट्र को बदनाम करने की साजिश रची जा रही है.

सीएम ने कहा कि वह चुप जरूर हैं लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि उनके पास कोई जवाब नहीं है. लेकिन आज इस मुद्दे पर बात नहीं कर रहा बल्कि आज कोरोना की वजह से महाराष्ट्र की मौजूदा सूरते हाल पर बात करूंगा.

कोरोना को लेकर मुंबई को बदनाम करने की कोशिश हो रही है. लोगों ने तालाबंदी के नियमों का पालन जरूर किया है लेकिन अभी कोरोना का संकट खत्म नहीं हुआ है.

यह भी पढ़ें: नहीं रहे बिहार के दिग्गज नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री रघुवंश प्रसाद, AIIMS में निधन

40 मिनट के संबोधन में सिर्फ कोरोना के हालात पर की बातचीत

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सीएम उद्धव ठाकरे ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि कोरोना की वजह से महाराष्ट्र को पूरी दुनिया में बदनाम करने की कोशिश की जा रही है.

देशभर में महाराष्ट्र ही वह राज्य है जहां कोरोना के सबसे अधिक मामले सामने आए हैं. इसीलिए हमें इसको लेकर और भी ज्यादा सावधानी बरतनी होगी.

इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि अभी भी कोरोना का संकट खत्म नहीं हुआ है इसलिए लोगों को नियमों का पालन करने की भी अपील की.

15 सितंबर से महाराष्ट्र में एक मुहिम की होगी शुरुआत

40 मिनट के अपने संबोधन में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि हम 15 सितंबर से हम एक मुहिम शुरू कर रहे हैं. जिसका नाम मेरा परिवार मेरी जिम्मेदारी रखा गया है.

जो लोग महाराष्ट्र से प्यार करते हैं वह इस मुहिम में जुड़कर अपनी जिम्मेदारी निभाएंगें. इस मौके पर उन्होंने कहा कि जबतक कोरोना को लेकर कोई दवा नहीं बन जाती लोगों को को मास्क पहनना होगा.

क्योंकि यही हमें कोरोना से बचा सकता है. इसलिए जरूर हो जाता है कि लोग भीड़भाड़ वाली जगह पर मास्क पहनकर ही जाए.

कंगना रनौत मामले पर कुछ नहीं बोले उद्धव ठाकरे

माना जा रहा था कि कंगना के साथ होने वाले तकरार के बीच वह अपने संबोधन में इसका जिक्र करेंगें लेकिन उन्होंने अपने संबोधन के शुरूआत में ही साफ कर दिया था कि आज वह इस मामले में कुछ भी नहीं बोलेंगे.

लेकिन उन्होंने कहा कि मेरी खामोशी को बिल्कुल भी मेरी मजबूरी ना समझा जाए.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

दिल्ली हिंसा में नाम सामने आने पर भड़के येचुरी, कहा-जहरीले भाषण देने वालों पर कब होगी कार्रवारी?