Gujarat Exclusive > देश-विदेश > UAPA के तहत उमर खालिद गिरफ्तार, रविवार को चली थी 11 घंटे पूछताछ

UAPA के तहत उमर खालिद गिरफ्तार, रविवार को चली थी 11 घंटे पूछताछ

0
318

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने जेएनयू के पूर्व छात्र नेता उमर खालिद (Umar Khalid) को गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम (UAPA) के तहत गिरफ्तार किया है. खालिद (Umar Khalid) को शनिवार को तलब किया गया था और उन्हें रविवार को लोदी कॉलोनी में विशेष सेल कार्यालय में जांच में शामिल होने के लिए कहा गया था.

रविवार को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने खालिद (Umar Khalid) से करीब 11 घंटे लंबी पूछताछ की जिसके बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया. उमर को आज कोर्ट में पेश किया जाएगा.

खालिद पर गंभीर आरोप

उमर खालिद (Umar Khalid) पर दिल्ली पुलिस ने 6 मार्च 2020 को एक एफआईआर दर्ज की थी. इस एफआईआर में भी उमर खालिद (Umar Khalid) पर संगीन इल्जाम है. इसमें लोगों को जमा करना, दंगे भड़काना, दंगों की पूर्व नियोजित साजिश रचना, भड़काऊ भाषण देना, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के दौरे के दौरान लोगों को सड़क पर प्रदर्शन करने के लिए उकसाना शामिल है.

यह भी पढ़ें: यूपी सरकार ने किया नई स्पेशल फोर्स का गठन, बिना वारंट गिरफ्तार करने का होगा अधिकार

UAPA एक्ट के तहत गिरफ्तार उमर खालिद (Umar Khalid) का जिक्र दिल्ली पुलिस ने हिंसा पर कोर्ट में पेश की अपनी एडिशनल चार्जशीट में भी किया था. दिल्ली हिंसा केस में गिरफ्तार की गई ‘पिंजरा तोड़’ की 3 महिला सदस्यों ने उमर खालिद का नाम लिया था. पुलिस के मुताबिक, ‘पिंजरा तोड़’ की 3 छात्राओं देवांगना कलिता, नताशा नरवाल और गुलफिशा फातिमा के मुताबिक, उमर खालिद ने उन्हें दंगे के लिए उकसाया और भीड़ को लामबंद करने का काम किया था.

चार्जशीट में किसका जिक्र

दिल्ली पुलिस ने 3 आरोपियों के कबूलनामें के बिनाह पर सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी, स्वराज अभियान के प्रमुख योगेंद्र यादव, आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्लाह खान, भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर और दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रोफेसर अपूर्वानंद के नाम का जिक्र चार्जशीट में किया था.

कोई ठोस आधार नहीं होने पर जब सवाल उठे तो दिल्ली पुलिस ने सफाई देते हुए कहा कि ये सभी दंगे के आरोपी नहीं है, सिर्फ इनके नाम का जिक्र है. ऐसे में अब देखना होगा दिल्ली हिंसा में पुलिस ने उमर खालिद (Umar Khalid) की गिरफ्तारी सिर्फ ‘जिक्र’ के लिए की है या उमर खालिद के खिलाफ दिल्ली पुलिस के पास है कोई ठोस सबूत.

बता दें कि फरवरी में नागरिकता संशोधन क़ानून (सीएए) के खिलाफ हो रहे विरोध प्रदर्शन के दौरान उत्तर-पूर्वी दिल्ली में सांप्रदायिक हिंसा भड़क गई थी. इसमें कम से कम 53 लोगों की मौत हुई थी और सैकड़ों लोग घायल हुए थे और कई अभी भी लापता बताए जाते हैं.

गिरफ्तारी पर सवाल

उमर खालिद Umar Khalid) की गिरफ्तारी को लेकर सोशल मीडिया पर रिएक्शन आ रहे हैं. एक्टर प्रकाश राज ने उमर खालिद Umar Khalid) की गिरफ्तारी को लेकर एक ट्वीट किया है. प्रकाश राज (Prakash Raj) ने लिखा है कि उमर खालिद की गिरफ्तारी को लेकर आवाज उठाई जानी चाहिए.

एक्टर प्रकाश राज ने उमर खालिद की गिरफ्तारी पर रिएक्शन दिया है, ‘शर्मनाक…अगर हमने इस विच हंट के खिलाफ आवाज नहीं उठाई तो, हमें खुद पर शर्मिंदा होना चाहिए….’ प्रकाश राज ने #StandWithUmarKhalid #FreeUmarKhalid #justasking हैशटैग का भी इस्तेमाल किया है. प्रकाश राज का यह ट्वीट खूब पढ़ा जा रहा है और सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल भी हो रहा है.

 

गिरफ्तारी के साथ ही ट्विटर पर उमर खालिद ट्रेंड करने लगा. इसको लेकर सोशल मीडिया में दो तरह की चर्चा चलने लगी. खालिद की गिरफ्तारी गैर कानूनी गतिविधियां (रोकथाम) कानून (UAPA) के तहत हुई गिरफ्तारी को लेकर सोशल मीडिया पर बहस छिड़ गई है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें