Gujarat Exclusive > देश-विदेश > स्मारक और ऐतिहासिक स्थल खुले लेकिन सैलानियों का कोई अता-पता नहीं

स्मारक और ऐतिहासिक स्थल खुले लेकिन सैलानियों का कोई अता-पता नहीं

0
272

कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के बीच सोमवार से देश के ऐतिहासिक स्थलों और स्मारकों को खोल दिया गया. ऐसे में अब लोग कुतुब मीनार, हुमायूं के मकबरे जैसे दिल्ली में अन्य संरक्षित स्मारकों जा सकते हैं. ये ऐतिहासिक स्थल लगभग तीन महीने से बंद थीं ताकि कोरोना वायरस महामारी को फैलने से रोका जा सके लेकिन अब अनलॉक की प्रक्रिया शुरू होने के बाद रियायतें मिलनी शुरू हो चुकी हैं. हालांकि स्मारक सुनसान दिख रहे हैं. सैलानियों का कोई अता-पता नहीं है.

न्यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, ऐतिहासिक धरोहरों को खोलने से पहले सभी स्मारकों के सैनिटाइजेशन का काम किया गया. अधिकारियों ने बताया कि संस्कृति मंत्रालय के निर्देशों के अनुसार इन्हें लोगों के लिए फिर से खोला जा रहा है. हालांकि इसके बावजूद लोग अभी भी कोरोना वायरस के कारण घर से निकलने से घबड़ा रहे हैं. हालांकि दिल्ली का लाल किला सोमवार को बंद रहता है.

अधिकारियों का कहना है कि इन ऐतिहासिक स्थलों पर समाजिक दूरी बनाए रखने और सैनिटाइजेशन के साथ-साथ सभी दिशानिर्देशों का पालन किया जाएगा. साथ ही ऐतिहासिक स्थलों में प्रवेश के लिए मास्क पहनना अनिवार्य होगा. मास्क पहने बिना प्रवेश की अनुमति नहीं मिलेगी. दिल्ली में 173 स्मारक भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) के तहत संरक्षित हैं. इसमें तीन यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल शामिल हैं- लाल किला, हुमायूं का मकबरा और कुतुब मीनार.

अधिकारी के मुताबिक, सामान्य दिनों में 6 से 10 हजार लोग आते हैं लेकिन फिलहाल प्रत्येक स्लॉट में, अधिकतम 1,500 आगंतुकों की अनुमति होगी. इसमें आगंतुकों के लिए दो स्लॉटों में दिकट बुक हो सकेंगे. एक स्लॉट जो सुबह शुरू होता है और दोपहर में समाप्त होता है और दूसरा स्लॉट दोपहर से शाम 6 बजे तक का होगा.

वीडियो: 39 के हुए धोनी, DJ ब्राबो ने नंबर-7 के लिए बनाया हेलिकॉप्टर सॉन्ग