Gujarat Exclusive > हमारी जरूरतें > उत्तर प्रदेश कोरोना के लिए 1 लाख बेड तैयार करने वाला देश का पहला राज्य बना

उत्तर प्रदेश कोरोना के लिए 1 लाख बेड तैयार करने वाला देश का पहला राज्य बना

0
1320

उत्तर प्रदेश में यूं तो दूसरे कई राज्यों के अपेक्षा कोरोना के मरीजों की संख्या कम है लेकिन राज्य की योगी सरकार लगातार स्थिति को दुरुस्त करने में जुटा हुआ है. इस बीच कोरोना के खिलाफ जंग में उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने बड़ी उपलब्धि हासिल की है. उत्तर प्रदेश कोरोना अस्पतालों में एक लाख बेड तैयार करने वाला देश का पहला राज्य बन गया है. राज्य के सभी 75 जिलों में L1, L2 स्तर के अस्पताल पूरी तरह तैयार हैं.

मालूम हो कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मई का अंत तक एक लाख बेड तैयार करने का निर्देश दिया था. यही नहीं राज्य में कोरोना टेस्ट की प्रतिदिन क्षमता 10 हजार तक पहुंच गई है. इससे पहले मार्च के पहले सप्ताह में प्रतिदिन 50 टेस्ट ही हो पाते थे.

सीएम योगी ने निर्देश दिया कि 15 जून तक 15000 टेस्ट और जून के अंत तक 20,000 टेस्ट प्रतिदिन की क्षमता हासिल की जाये. आपको बता दें कि अभी उत्तर प्रदेश में 30 लैब काम कर रही हैं, जिसमें 24 सरकारी और 6 अन्य संस्थाओं में हैं. प्रदेश में लेवल 3 के भी 25 अस्पताल तैयार किये गए हैं. कोरोना के सामान्य मरीजों के लिए लेवल – 1 और लेवल – 2 के अस्पताल हैं. साथ ही कोरोना के गंभीर मरीजों के लिए लेवल 3 के अस्पताल पूरी तरह तैयार हैं.

यूपी सरकार के मुताबित लेवल 1 के अस्पतालों में सामान्य बेड के अलावा आक्सीजन की भी व्यवस्था की गई है. लेवल 2 के अस्पतालों में बेड पर आक्सीजन के साथ कुछ में वेंटिलेटर की भी व्यवस्था की गई है. लेवल 3 के अस्पतालों में वेंटिलेटर, आईसीयू और डायलसिस की व्यवस्थाओं समेत गंभीर मरीजों के लिए हर तरह की अत्याधुनिक सुविधाओं का दावा यूपी सरकार ने किया है. वहीं कोरोना के पहले केस के वक्त यूपी के 36 जनपदों में वेंटिलेटर नहीं थे. जिसके बाद सीएम के निर्देश पर हर जनपद में पर्याप्त वेंटिलेटर दिये गये. लॉकडाउन के दौरान नोएडा में वेंटिलेटर निर्माण की यूनिट भी शुरू की गई.

यूपी में कोरोना के 7,445 संक्रमित मामले सामने आए हैं जिसमें से 201 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि इस दौरान 4410 लोगों को अस्पताल से छुट्टी दी जा चुकी है.