Gujarat Exclusive > राजनीति > यूपी में पंचायत चुनाव में शिवसेना पेश करेगी चुनौती, पहले से मैदान में हैं AAP और AIMIM

यूपी में पंचायत चुनाव में शिवसेना पेश करेगी चुनौती, पहले से मैदान में हैं AAP और AIMIM

0
295

उत्तर प्रदेश का पंचायती चुनाव (UP Panchayat Elections) इस बार खास होने वाल है. यूपी पंचायत चुनाव में आम आदमी पार्टी (आप) और औवैसी की ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) पहले ही अपने उतरने का ऐलान कर चुकी है. अब शिवसेना ने भी अपने प्रत्याशी मैदान में उतारने का ऐलान कर दिया है.

शिवसेना ने प्रत्याशियों के चयन के सभी जिलों से आवेदन मांगे हैं. बता दें कि विधानसभा आम चुनाव से पहले सेमीफाइनल माने जाने वाले पंचायत चुनाव (UP Panchayat Elections) मार्च-अप्रैल तक प्रस्तावित हैं.

यह भी पढ़ें: किसानों और सरकार के बीच बैठक शुरू, बातचीत से हल निकालने की कोशिश

तमाम राजनीतिक दल तैयारियों में पंचायत चुनाव (UP Panchayat Elections) की तैयारियों में जुटे हुए हैं. इससे पहले आम आदमी पार्टी ने भी पंचायत चुनाव में उतरने का ऐलान कर चुकी है. इसके लिए विभिन्न राजनीतिक दलों ने तैयारी तेज कर दी है.

कैसी है तैयारी

एबीपी न्यूज के मुताबिक, शिवसेना के उत्तर प्रदेश के राज्य प्रमुख अनिल सिंह ने बताया कि पार्टी की ओर से पंचायत चुनाव (UP Panchayat Elections) के लिए जिलावार समीक्षा कर प्रभारी नियुक्त किए जा रहे हैं. सभी जिलों से आवेदन मांगे जा रहे हैं. इसके अलावा शिवसेना प्रतिनिधिमंडल महाराष्ट्र में संगठन के शीर्ष नेताओं से भेंट कर उन्हें चुनाव की तैयारियों से अवगत कराएगा. प्रदेश पदाधिकारियों को चुनाव प्रबंधन के गुर सीखने के लिये महाराष्ट्र भेजा जाएगा. यह लोग करीब एक सप्ताह रूकेगे. वहां के बीएमसी और ग्रामीण आंचल में शिवसेना कैसे काम कर रही, यह सीखेगे.

कांग्रेस को मनाने की कोशिश

अनिल सिंह ने आगे बताया की पूर्वांचल, पश्चिम बुन्देल खंड में प्रशिक्षण होगा. इसके बाद प्रत्याशियों का चयन कर उन्हें मैदान में उतारा जाएगा. अगर इसी बीच कांग्रेस से बात बन गयी तो उनके साथ गठबंधन कर चुनाव लड़ा जाएगा. चुनाव (UP Panchayat Elections) में सफलता भी मिलेगी.

बता दें कि उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव (UP Panchayat Elections) की तारीखों का ऐलान नहीं हुआ, लेकिन सूत्रों की मानें तो मार्च-अप्रैल तक चुनाव हो जाएंगे. यूपी में ग्राम प्रधानों का कार्यकाल 25 दिसंबर को खत्म हो गया. एडीओ ग्राम पंचायत का कामकाज देख रहे हैं.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें