Gujarat Exclusive > गुजरात > MP बॉर्डर पर फंसे UP के श्रमिक, ना प्रशासन कर रही मदद, ना ही मिल रहा खाना- पानी

MP बॉर्डर पर फंसे UP के श्रमिक, ना प्रशासन कर रही मदद, ना ही मिल रहा खाना- पानी

0
1063

गुजरात के अलग अलग हिस्सों में काम करने वाले प्रवासी मजदूरों में कुछ लोग घर पहुंच चुके हैं वहीं कुछ लोग रास्ते में हैं जबकि कुछ लोग घर वापसी का इंतजार कर रहे हैं. ऐसे में सूरत से उत्तर प्रदेश के लिए गई बसों और अन्य वाहनों को मध्य प्रदेश के बॉर्डर पर रोक लिया गया है. 1000 से ज्यादा लोग अभी भी गुजरात-एमपी के बॉर्डर पर फंसे हुए हैं. कुछ लोग वापस लौट आए हैं तो कुछ लोगों को यूपी जाने की जिद को लेकर बैठे हैं ऐसे लोगों की ना प्रशासन मदद कर रही है ना ही उन्हें खाना-पानी मिल रहा है.

चार घंटे से पानी तक नहीं मिला

वहां फंसे लोग ने एक वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट किया है, जिसमें कहा जा रहा है कि उन्हें चार घंटे से पानी तक नहीं मिला है. खाने की कोई व्यवस्था नहीं है. नेता-मंत्री सुन नहीं रहे हैं. सूरत से उन्हें पास बनाकर भेज दिया गया, लेकिन बॉर्डर पर उन्हें रोक लिया गया. वहां से ये लोग न वापस आ पा रहे हैं, न आगे जा पा रहे हैं. कई लोगों को खाली मैदान में रुकवाया गया है और कहा गया है कि जब तक इजाजत नहीं मिल जाती तब तक आगे नहीं जा सकते.

फंसे श्रमिक परेशान हैं और गुजरात, मध्य प्रदेश तथा उत्तर प्रदेश सरकार से गुहार लगा रहे हैं कि उन्हें किसी भी हाल में उनके घर तक पहुंचा दिया जाए. लोगों ने बताया कि उन्हें बॉर्डर पर ना खाना मिल रहा है और ना ही पानी जिसकी वजह से कई मजदूरों की तबीयत भी खराब होने लगी है.

प्रवासी मजदूरों पर सौगातों की बरसात, बिहार CM का ऐलान टिकट के साथ पैसा भी देगी सरकार