Gujarat Exclusive > गुजरात > … तो क्या यस बैंक संकट के बारे में अडानी को पता था ?

… तो क्या यस बैंक संकट के बारे में अडानी को पता था ?

0
1769

अहमदाबाद: पिछले दो तीन दिनों में सामने आई यस बैंक के संकट ने कई गंभीर सवाल खड़े कर दिए हैं. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) द्वारा गुरुवार को अचानक लगाए गए प्रतिबंध की वजह से यस बैंक के ग्राहकों में खलबली मच गई है और पूरे देश में इसकी शाखाओं के बाहर लंबी-लंबी कतार लगनी शुरू हो गई है. हालांकि, यस बैंक के कई कॉर्पोरेट और संस्थागत ग्राहक जो विशेष रूप से गुजरात से हैं, वो इससे अप्रभावित रहे क्योंकि उन्होंने आरबीआई के प्रतिबंध लागू होने से कुछ दिन पहले ही बैंक में पड़े अपने थोक जमा को निकाल लिया था.

अब यह स्पष्ट रूप से सवाल उठाता है कि क्या ये कॉर्पोरेट घराने या संस्थागत ग्राहक बैंक के भाग्य के बारे में पहले से जानते थे, जबकि आम जनता को अंधेरे में रखा गया था. ऐसा ही एक कॉरपोरेट जो कथित तौर पर बैंक से आरबीआई के प्रतिबंध से कुछ दिन पहले किसी भी वित्तीय निहितार्थ से बच गया, उसका नाम है अडानी गैस.

यदि सोशल मीडिया पर प्रसारित किए गए संदेश पर ध्यान दिया जाए तो अडानी गैस ने 25 फरवरी को अपने ग्राहकों को सूचित किया था कि वे यस बैंक के ड्रॉप बॉक्स में किसी भी गैस बिल के भुगतान का चेक न डालें, क्योंकि कंपनी ने यस बैंक के साथ अपनी सेवाएं समाप्त कर दी हैं. उस संदेश में यह भी स्पष्ट था कि ग्राहक एक्सिस बैंक, आईडीबीआई, आईसीआईसीआई, कालूपुर बैंक और एचडीएफसी के एटीएम के ड्रॉप बॉक्स में अपनी चेक डाल सकते हैं.

गुजरात एक्सक्लूसिव ने इस संदर्भ में सत्यता की पुष्टि के लिए अडानी गैस के अधिकारी से बातचीत करने की कोशिश की लेकिन अडानी गैस के निदेशक प्रणव अडानी ने मैसेज या ईमेल से पूछे गए सवालों का कोई जवाब नहीं दिया.

दिलचस्प बात यह है कि अडानी गैस के अलावा यस बैंक के ग्राहकों के लिए 50,000 रुपये की निकासी तय करने से एक दिन पहले ही वडोदरा स्मार्ट सिटी डेवलपमेंट नामक कंपनी ने 265 करोड़ की राशि बैंक से निकाल ली थी.

अडानी ग्रूप की ओर से इस मामले पर रिपोर्ट प्रकाशित होने के अगले दिन यानि कि, रविवार (8मार्च 2020) प्रतिक्रिया देते हुए गुजरात एक्सक्लूजिव को बताया कि, “यस बैंक आर्थिक संकट से गुजर रही होने के कई सारे मीडिया रिपोर्ट प्रकाशित हुए थे जिसको ध्यान में रखते हुए अडानी गैस जैसे बड़े ग्राहक बेस रखने वाली कंपनी को सही सलामत तरीके से व्यवहार सुनिश्चित करने के लिए ग्राहकों के हित में हमने यह सलाह दिया था“.

यस बैंक संकट : पाबंदी से एक दिन पहले गुजरात की एक कंपनी ने एकमुश्त निकाले 265 करोड़ रुपये