Gujarat Exclusive > देश-विदेश > …किसी के बाप का हिंदुस्तान थोड़ी है’, लिखने वाले शायर राहत इंदौरी ने दी पीएम मोदी को नसीहत

…किसी के बाप का हिंदुस्तान थोड़ी है’, लिखने वाले शायर राहत इंदौरी ने दी पीएम मोदी को नसीहत

0
704

नई दिल्ली : मशहूर शायर राहत इंदौरी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के मसले पर उन्हें नसीहत दी है. इंदौरी ने तंज कसते हुए पीएम मोदी से कहा है कि उन्हें किसी शिक्षित व्यक्ति से देश का संविधान पढ़वाकर समझने की कोशिश करनी चाहिए कि इसमें क्या लिखा है और क्या नहीं. इंदौरी ने यह बात संशोधित नागरिकता कानून, राष्ट्रीय नागरिक पंजीकरण (एनआरसी) और राष्ट्रीय जनसंख्या पंजी (एनपीआर) के खिलाफ पिछले कई दिनों से शहर के बड़वाली चौकी इलाके में जारी विरोध प्रदर्शन के मंच से कही.

इस मंच से 70 वर्षीय शायर इंदौरी के संबोधन के वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं. इंदौरी ने कहा, “मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से दरख्वास्त करना चाहूंगा कि अगर वह संविधान पढ़ नहीं पाए हैं, तो किसी पढ़े-लिखे आदमी को बुला लें और उससे संविधान पढ़वाकर समझने की कोशिश करें कि इसमें क्या लिखा है और क्या नहीं.”

उन्होंने सीएए, एनपीआर और एनआरसी के मुद्दों पर दिल्ली के शाहीन बाग और इंदौर के अलग-अलग इलाकों में जारी विरोध प्रदर्शनों का जिक्र करते हुए कहा, “यह लड़ाई भारत के हर हिंदू, मुस्लिम, सिख और ईसाई की लड़ाई है. हम सबको मिलकर यह लड़ाई लड़नी है.” फैज अहमद फैज की नज्म “हम देखेंगे, लाजिम है कि हम भी देखेंगे” को एक धर्मविशेष के खिलाफ बताए जाने के विवाद की ओर सीधा इशारा करते हुए इंदौरी ने कहा कि कुछ लोगों ने फैज की इस रचना का मतलब ही बदल दिया. उन्होंने कहा, “मुझे फैज की नज्म का मतलब बदले जाने पर अचंभा नहीं हुआ, क्योंकि ऐसा करने वाले लोग कम पढ़े-लिखे हैं. वे न तो हिन्दी जानते हैं, न ही उर्दू.” इंदौरी ने सीएए विरोधी मंच से अपनी अलग-अलग रचनाओं समेत यह मशहूर शेर भी सुनाया, “सभी का खून है शामिल यहां की मिट्टी में, किसी के बाप का हिंदुस्तान थोड़ी है.”