Gujarat Exclusive > देश-विदेश > पिछले चार दिनों से दहक रहा है उत्तराखंड, जंगलों में लगी भीषण आग से खतरे में वन्यजीवन

पिछले चार दिनों से दहक रहा है उत्तराखंड, जंगलों में लगी भीषण आग से खतरे में वन्यजीवन

0
996

देश में ज्यादातर हिस्सों में गर्मी ने अपना प्रचंड रूप दिखाना शुरू कर दिया है. दिल्ली में जहां कई साल का रिकॉर्ड मंगलवार को टूट गया तो वहीं राजस्थान में 50 डिग्री सेल्सियस तापमान रिकॉर्ड किया गया. कोरोना संकट के दौरान देश के कई हिस्सों में आग की खबरें भी सामने आ रही हैं. इस बीच उत्तराखंड़ पिछले चार दिनों से उत्तराखंड जल रहा है.

आसमान से बरसती आग और बढ़ते तापमान के कारण उत्तराखंड के जंगलों में आग लगने की कई घटनाएं सामने आई हैं. यहां जंगलों में आग की 45 से भी ज्यादा घटनाएं दर्ज की गई हैं, जिसके चलते 71 हेक्टेयर से अधिक जमीन बर्बाद हो गई है. जंगल में लगी आग के कारण जंगलों में रहने वाले वन्यजीवों के जीवन पर संकट मंडरा रहा है. पिछले साल इसी तरह के जंगल की आग ने अल्मोड़ा, नैनीताल, टिहरी, देहरादून और हल्द्वानी में सैकड़ों हेक्टेयर भूमि को नष्ट कर दिया था.

कुमाऊं क्षेत्र में आग की कम से कम 21 घटनाएं सामने आई हैं, जबकि गढ़वाल क्षेत्र में जंगल में आग की 16 घटनाएं दर्ज की गई हैं. अनरक्षित वन क्षेत्र में जंगल की आग की नौ घटनाएं देखी गईं. खबरों के मुताबिक, जंगल में आग लगने से दो लोगों की जान चली गई, जबकि एक व्यक्ति घायल हो गया. इस बीच उत्तराखंड के जंगल की आग की कई तस्वीरें इंटरनेट पर वायरल हो रही हैं.

पीआईबी उत्तराखंड द्वारा शेयर किए गए एक ग्राफ के अनुसार, पिछले साल की तुलना में इस साल जंगल की आग की घटनाओं में कमी आई है. आंकड़ों के अनुसार, पिछले साल इसी अवधि में 1590 हेक्टेयर भूमि की तुलना में 25 मई तक जंगल में लगी आग के कारण 71.46 हेक्टेयर भूमि प्रभावित हुई है.

महाराष्ट्र में राजनीतिक सरगर्मियां तेज, सीएम उद्धव ने बुलाई सभी सहयोगी दलों की बैठक