Gujarat Exclusive > गुजरात > कोरोना की चपेट में आए वडोदरा के 200 से ज्यादा रेलवे कर्मचारी, मचा हड़कंप

कोरोना की चपेट में आए वडोदरा के 200 से ज्यादा रेलवे कर्मचारी, मचा हड़कंप

0
666

वडोदरा: कोरोना की दूसरी लहर गुजरात में दिखाई दे रही है. वडोदरा भी दूसरे लहर बचा नहीं शहर और जिला में कोरोना के नए मामले बढ़ते जा रहे हैं.

इस बीच वडोदरा रेलवे के लगभग 200 कर्मचारी कोरोना की चपेट में आ गए हैं. इसमें रेलवे के कर्मचारियों और उनके परिजन शामिल हैं.Vadodara Railway Staff Corona

वडोदरा रेलवे प्रशासन की ओर से किए गए टेस्ट में सामने आया परिणामVadodara Railway Staff Corona

वडोदरा रेलवे द्वारा लगभग 350 आरटी-पीसीआर टेस्ट और लगभग 400 रैपिड टेस्ट किए गए. इन दो परीक्षणों में कोरोना संक्रमित रोगियों की कुल संख्या लगभग 200 है.

कोरोना की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद कुछ कर्मचारियों ने होम क्वारंटाइन होने का फैसला किया है.Vadodara Railway Staff Corona

वहीं कुछ रेलवेकर्मी और उनके परिजनों को प्रतापनगर रेलवे अस्पताल के कोविड सेंटर में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है.

यह भी पढ़ें: गुजरात में कोरोना संक्रमितों की संख्या 2 लाख के पार, 1510 नए मरीज मिले

धनवंतरी रथ के टेस्ट में किसी की रिपोर्ट नहीं आई थी पॉजिटिवVadodara Railway Staff Corona

कुछ दिनों पहले धनवंतरी रथ के द्वारा रेलवे के अधिकारियों, कर्मचारियों और उनके परिजनों का कोरोना टेस्ट किया गया था. इस टेस्ट में तमाम लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई थी.

लेकिन कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर प्रतापनगर रेलवे अस्पताल ने कोरोना की गंभीरता को देखते हुए 400 से अधिक आरटी-पीसीआर टेस्ट किया जिसमें से 40 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई.

वहीं 400 लोगों का रैपिड टेस्ट किया गया जिसमें से 150 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई. इतनी बड़ी संख्या में रेलव कर्मचारियों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर रेलवे प्रशासन में खलबली मच गई है.

प्रतापनगर के रेलवे अस्पताल के अतिरिक्त मुख्य चिकित्सा अधीक्षक, डॉ. कृष्णकुमार ने कहा कि कुल 750 लोगों का आरटी-पीसीआर टेस्ट किया गया था.Vadodara Railway Staff Corona

जिसमें से 200 से ज्यादा लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. फिलहाल कुछ को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती किया गया वहीं कुछ लोगों को होम क्वारंटाइन कर दिया गया है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

अहमद पटेल का राजनीतिक सफर: गांधी परिवार का सेवक या राजनेता?