Gujarat Exclusive > राजनीति > कांग्रेस की आंतरिक कलह का खामियाजा भुगत रहे राजस्थान के लोग: वसुंधरा राजे

कांग्रेस की आंतरिक कलह का खामियाजा भुगत रहे राजस्थान के लोग: वसुंधरा राजे

0
1439

राजस्थान में जारी सियासी संग्राम पर भाजपा और कांग्रेस आमने-सामने आ गए हैं. दोनों पार्टी एक-दूसरे पर साजिश और षड़यंत्र रचने के आरोप लगा रही हैं. इस बीच राजस्थान की सियासी घमासान पर पहली बार पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी की वरिष्ठ नेता वसुंधरा राजे का बयान सामने आया है. वसुंधरा राजे ने कहा है कि कांग्रेस की अंदरूनी कलह का खामियाजा राजस्थान की जनता भुगत रही है.

वसुंधरा राजे ने ट्विटर के जरिये अपनी बात सामने रखी है. उन्होंने कहा कि इस विवाद में बीजेपी को बेवजह घसीटने की जरूरत नहीं है. पूर्व मुख्यमंत्री ने अशोक गहलोत सरकार को असल मुद्दे से भटकने के आरोप लगाए हैं.

 

बीजेपी पर दोष लगाने की कोशिश दुर्भाग्यपूर्ण

पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा ने ट्वीट किया, ”यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि कांग्रेस के आंतरिक कलह का नुकसान आज राजस्थान की जनता को उठाना पड़ रहा है. ऐसे समय में जब हमारे प्रदेश में कोरोना के पांच सौ से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं और करीब 28 हजार लोग कोरोना पॉजिटिव हैं, ऐसे समय में जब टिड्डी हमारे किसानों के खेतों पर लगातार हमले कर रही है. कांग्रेस बीजेपी और बीजेपी नेतृत्व पर दोष लगाने की कोशिश कर रही है.’’

पूर्व सीएम राजे ने आगे कहा, ‘’ऐसे समय में जब हमारी महिलाओं के खिलाफ अपराध ने सीमाएं लांघ दी हैं, ऐसे समय में जब प्रदेशभर में बिजली समस्या चरम पर है और ये तो केवल मैं कुछ ही समस्याएं बता रही हूं. सरकार के लिए सिर्फ और सिर्फ जनता का हित सर्वोपरि होना चाहिए.’’

सीएम गहलोत ने लगाए हैं भाजपा पर आरोप

गौरतलब है कि राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत लगातार बीजेपी पर सरकार गिराने की साजिश रचने का आरोप लगा रहे हैं. कांग्रेस के इन आरोपों को खारिज करते हुए बीजेपी ने आड इस घटनाक्रम को झूठ और फरेब की कथा करार दिया. पार्टी प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि सारा षड्यंत्र उन्हीं (कांग्रेस) के घर में रचा जा रहा था और संवैधानिक प्रावधानों को ताक पर रखकर फोन टैंपिंग किये जाने सहित विभिन्न प्रकरण की सीबीआई से जांच कराई जानी चाहिए.

वहीं कांग्रेस प्रवक्ता कांग्रेस ने राजस्थान में ऑडियो क्लिप मामले की बीजेपी द्वारा सीबीआई जांच की मांग किए जाने के बाद कहा कि केंद्र में सत्तारूढ़ पार्टी ने खुलकर स्वीकार कर लिया कि उसने अशोक गहलोत सरकार को अस्थिर करने के लिए विधायकों की खरीद-फरोख्त की. साथ ही कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने यह भी कहा कि कांग्रेस के दरवाजे आज भी पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट और बागी विधायकों के लिए खुले हैं.

राजस्थान फोन टैपिंग मामले में भाजपा ने की CBI जांच की मांग