Gujarat Exclusive > गुजरात एक्सक्लूसिव > DPS की संचालिका मंजुला श्रॉफ और बाबा नित्यानंद के मधुर संबंधों का वीडियो सामने आया

DPS की संचालिका मंजुला श्रॉफ और बाबा नित्यानंद के मधुर संबंधों का वीडियो सामने आया

0
406

अहमदाबाद: DPS स्कूल में चलने वाले नित्यानंद आश्रम की जांच जिस तरीके से की जा रही है उसे देखकर ऐसा लगता है कि कागजी खानापूर्ती को भरने के लिए मामले की जांच की जांच की जा रही है. इस बीच गुजरात एक्सक्लूजिव के हाथों लगी एक वीडियो से खुलासा हुआ कि नित्यानंद और मंजुला श्रॉफ के बीच काफी घनिष्ठ और मधुर संबंध हैं. वीडियो में “साधिका मंजुला श्रॉफ” नित्यानंद के एक चमत्कारी इवेंट का गुणगान कर रही हैं. इतना ही नहीं मंजुला ढोंगी बाबा के चमत्कार के बारे में लोगों को बता रही हैं, वीडियो देखने के बाद बिल्कुल साफ हो जाता है कि मंजुला नित्यानंद के साथ एक लम्बा वक्त भी गुजार चुकी हैं.

वीडियो में मंजुला कहती है, ” मैने नित्यानंद के सानिध्य में रहते हुए दो चीजों का अध्ययन किया.” पहला एक अजीब तस्वीर थी और एक अनजान शहर था, मुझे एक तस्वीर दिया गया (मोबाइल में दिखाते हुए) इसे आप जूम इन कर सकते हैं. यह तस्वीर एक शहर से दूर एक गाँव की है. मैं उस गली को देख सकती थी, उसमें एक खासियत थी उसमें एक ढलान वाली छत थी, एक झोपड़ी थी धीरे-धीरे स्नो फोल हो रहा था. वहां पर इस तरह की बहुत सी जगह थी और बाईं तरफ खाली जगह थी. मुझे दूरवर्ती संवेदना में काफी दिलचस्पी है और मैं इसके लिए में काफी अभ्यास भी कर रही हूं, इन तस्वीरों को जूम कर मैंने अपने दोस्त की बैंक देख रही थी. वह बैंक फ्रांस के अंदरुनी इलाके में है. मैने इस बारे में अपने दोस्त को बताने के लिए फोन किया और पूछा कि आपको मालूम है कि आपके यहां एक नया बैंक खुला है. क्या आपने उसे कभी देखा है? बैंक नहीं देखा तो हम कैसे कह सकते हैं कि उस जगह पर नया बैंक खुला है, फिर मेरे दोस्त ने बोला आपको मालूम है कि मैं क्या करने वाला हूं आप रुको मैं अपने कोआर्डीनेटर को फोन करता हूं वह आपको बैंक का फीचर भेज देगा. यह एक अद्भुत अनुभव था जिससे मेरा आत्मविश्वास भी बढ़ा था. जो मेरे साथ ये काम कर रहे थे वह स्वामी जी थे. यह हमारे लिए सबसे बड़ी सीख थी. हमने वहां दो चीजें सीखीं. ”

मंजुला श्रॉफ अपने दूसरे चमत्कारी अनुभव के बारे में बताती हैं कि कैसे बाबा नित्यानंद ने वैक्सिंग और क्लिनिंग के बिना तेज नजरों से बाल को रिमूव कर दिया, इस चमत्कारी अनुभव के बारे में बता रही हैं.

मंजुला के शब्द कुछ इस तरह के हैं, “दूसरी बात यह थी कि बालों को कैसे हटाया जाए. इसमें हमने छोटे पेय पदार्थों का इस्तेमाल किया था जिसे हमने स्वामीजी की तीसरी आँख से निकाला था. 50 प्रतिशत बाल हमने इसी तरीके से निकाला था. एक जगह जम जाने के बाद वह दूरदर्शी नजरों का उपयोग करते थे. बाल जल्दी बढ़ जाते हैं … “

एक छात्र ने मंजुला पूजा श्रॉफ से सवाल करते हुए पूछा कि विद्यार्थी इतना परेशान क्यों रहते हैं. मंजुला श्रॉफ ने कहा -” यदि बच्चो शक्ति दे दिया जाए तो वह शिक्षक को प्रताड़ित नहीं कर सकते, छात्र तनाव में रहते हैं इसकी वजह परीक्षा, पद्धति और प्रश्न पत्र है. यदि छात्रों की तीसरी आँख खोल दी जाए तो वह समझदार हो जाएंगे”

छात्र के सवाल के बाद मंजुला ने जो जवाब दिया वह इस बात का सबूत है कि डीपीएस स्कूल में चलने वाला आश्रम को कोई रेंट एग्रीमेंट या प्रिंसिपल की मर्जी के हिसाब से नहीं बल्कि मंजुला श्रॉफ और नित्यानंद के सांठगांठ से संचालित किया जा रहा था, वहां पर शायद छात्रों पर बलात्कारी बाबा नित्यानंद के द्वारा तंत्र-मंत्र विद्या करवाना चाहती थी अथवा करवाती थी.

मंजुला श्रॉफ और नित्यानंद के बीच के संबंधों को लेकर वीडियो ने खुलासा कर दिया है ऐसे में भगेड़ू बलात्कारी बाबा और मंजुला के कैलाश निवासी ढोंगी नियत्यानंद के बीच के संबंधों की पुलिस जांच करेगी या नहीं ये बड़ा सवाल है? नित्यानंद ने कैलाश की नींव रखने के लिए गुजरात की मंजुला और उसकी चौकड़ियों के जरिये कई व्यापारी, अधिकारी और राजनेताओं को ब्लैकमेल किया गया है, कितने का सहयोग मिला है और कई लोग तो भागीदार हैं. इस दिशा में पुलिस जांच करेगी या नहीं ये भी एक बड़ा सवाल है?

विदेश भागकर नित्यानंद ने एक पूरा देश खड़ा कर दिया उसके लिए कहां से पैसा आया, कितना पैसा जमा किया गया और किस माध्यम से त्रिनिदाद-टोबेगो भेजा गया इस सिलसिले में आयकर विभाग जांच करेगी? मंजुला श्रॉफ, अमिताभ शाह, रश्मि शाह, दिप्ती अमित शाह अभिशाह और हितेन वसंत के जरिये नित्यानंद गुजरात से कितने पैसे और किन-किन लोगों से लूटा है, इस दिशा में भी जांच करवाया जाएगा, या फिर डीपीएस की जांच के आड़ में और मंजुला के दबाव में सिस्टम मामले को मामूली जमीन केस में खत्म कर देगा?

गुजरात कांग्रेस ने नौकरियों पर लगाया था प्रतिबंध, PR एजेंसी की वजह से बदले अंदाज में नजर आए सीएम रुपाणी