Gujarat Exclusive > देश-विदेश > आतंकी हमला की चेतावानी, संघ कार्यालयों की बढ़ाई गई सुरक्षा, राजस्थान विधानसभा में उठा मुद्दा

आतंकी हमला की चेतावानी, संघ कार्यालयों की बढ़ाई गई सुरक्षा, राजस्थान विधानसभा में उठा मुद्दा

0
229

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के नेता और दफ्तर दुनिया के कई बड़े आतंकी संगठनों के निशाने पर हैं. हमले के लिए आतंकवादी इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस या विस्फोटकों से लदी गाड़ी का इस्तेमाल कर सकते हैं. इंटेलिजेंस ब्यूरो के ताजा इनपुट के मुताबिक, महाराष्ट्र, पंजाब और राजस्थान और पूर्वोत्तर के राज्यों में इस तरह के हमले का ज्यादा खतरा है. आईबी द्वारा जारी इनपुट में कहा गया, “वैश्विक आतंकी समूहों से जुड़े अज्ञात लोग आने वाले दिनों में आरएसएस के नेताओं, उनके दफ्तरों और पुलिस स्टेशनों पर हमले की योजना बना रहे हैं. आतंकवादी आईईडी या विस्फोटकों से लदी गाड़ी की मदद से आने वाले दिनों में ऐसे हमले को अंजाम दे सकते हैं.

राजस्थान में भारतीय जनता पार्टी की मांग पर सरकार ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और उससे जुड़े संगठनों के कार्यालयों पर सुरक्षा बढ़ा दी है. बीजेपी विधायक संघ से जुड़े लोगों के व्यक्तिगत सुरक्षा की भी मांग कर रहे हैं. इससे पहले राजस्थान विधानसभा में बुधवार को आरएसएस के पदाधिकारियों एवं दफ्तरों पर आतंकी हमले की आशंकाओं पर आईबी अलर्ट का मामला गूंजा.

बीजेपी विधायक दल के उपनेता राजेंद्र राठौड़ ने यह मामला उठाया. उन्होंने कहा कि आईबी की रिपोर्ट में राजस्थान,पंजाब और महाराष्ट्र में संघ के नेता और दफ्तरों पर आतंकी हमले का खतरा है. उन्होंने कहा कि आईबी ने राजस्थान सरकार को भी अलर्ट कर दिया है कि आतंकी संगठन हमलों को अंजाम देने के लिए विस्फोटक से लदे वाहनों का इस्तेमाल कर सकते हैं. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार को आईबी अलर्ट के मद्देनजर सुरक्षा के इंतजाम करने चाहिए. राठौड़ ने कहा कि पंजाब और महाराष्ट्र में सुरक्षा व्यवस्था की गई है और राजस्थान में भी इस मामले को गंभीरता से लिया जाना चाहिए.