Gujarat Exclusive > यूथ > 42 वर्षीय वसीम जाफर ने क्रिकेट को कहा अलविदा, 12 साल पहले खेला था आखिरी अंतरराष्ट्रीय मैच

42 वर्षीय वसीम जाफर ने क्रिकेट को कहा अलविदा, 12 साल पहले खेला था आखिरी अंतरराष्ट्रीय मैच

0
549

भारतीय क्रिकेटर और मझे हुए सलामी बल्लेबाज वसीम जाफर ने क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास ले लिया है. घरेलू क्रिकेट के ‘सचिन तेंदुलकर’ के नाम से मशहूर जाफर ने शनिवार को अपने लंबे करियर पर विराम लगाने का फैसला किया. अपने कलात्मक शॉट और तकनीक के लिए विख्यात जाफर ने अप्रैल 2008 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अपना आखिरी अंतरराष्ट्रीय मैच खेला था. उसके बाद उन्हें कभी भी भारतीय टीम के लिए खेलने का मौका नहीं मिला और अंतत: उन्होंने क्रिकेट से संन्यास की घोषणा कर दी.

साथियों का किया शुक्रिया

42 वर्षीय वसीम जाफर ने टीम इंडिया के पूर्व सलामी बल्लेबाज वसीम जाफर ने अपने क्रिकेट करियर को विराम देते हुए कहा, ‘सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़, सौरव गांगुली, अनिल कुंबले, वीवीएस लक्ष्मण, वीरेंद्र सहवाग और महेद्र सिंह धोनी जैसे खिलाड़ियों के साथ ड्रेसिंग रूम साझा करना मेरे लिए सम्मान की बात रही.’ जाफर ने इस भावुक मौके पर कहा कि उन्होंने देश के लिए क्रिकेट खेलकर अपने पिता का सपना पूरा किया है, जिस पर उन्हें गर्व है.

घरेलू क्रिकेट के बेताज बादशाह

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से दूर रहने के दौरान जाफर ने घरेलू क्रिकेट को ही अपना करियर बनाया और लगातार एक के बाद एक कई रिकॉर्ड अपने नाम किए. जाफर ने रणजी ट्रॉफी के कुल 10 फाइनल मुकाबलों में बल्लेबाजी की और हर बार अपनी टीम को खिताब दिलाया. वे 1996-97 से 2012-13 तक आठ बार रणजी ट्रॉफी जीतने वाली मुंबई के लिए क्रिकेट खेला. इसके बाद वो विदर्भ के लिए खेलने लगे और यहां भी उन्होंने अपनी टीम को लगातार दो बार 2018 और 2019 में खिताब दिलाने में बड़ी भूमिका निभाई.

प्रथम श्रेणी क्रिकेट में 19,410 रन

वसीम जाफर ने 260 प्रथम श्रेणी मैचों में 50.67 की औसत से 19,410 रन बनाए हैं. उन्होंने 57 शतक और 91 अर्द्धशतक जड़े. नाबाद 314 उनका सर्वोच्च स्कोर रहा. उन्होंने 2000 और 2008 के बीच 31 टेस्ट मैचों में भारत का प्रतिनिधित्व किया, जिसमें पांच शतकों और 11 अर्द्धशतकों सहित 1944 रन बनाए. साथ ही उन्होंने 8 साल के अपने अंतरराष्ट्रीय करियर में भारत के लिए दो वनडे भी खेले हैं.

रणजी ट्रॉफी में सर्वाधिक रन

रणजी ट्रॉफी में वसीम जाफर ने 12038 रन बनाए, जो कि एक रिकॉर्ड है. उनके अलावा किसी और खिलाड़ी ने इस प्रतिष्ठित घरेलू ट्रॉफी में दस हजार का आंकड़ा नहीं छुआ है. अमोल मजूमदार 9202 रन बनाकर दूसरे स्थान पर हैं. मुंबई की ओर से अपने करियर की शुरुआत करने वाले वसीम जाफर 2015-16 सीजन से पहले विदर्भ चले गए थे. लगातार दो बार (2018 और 2019) उन्होंने विदर्भ को खिताब दिलाने में अहम भूमिका निभाई.

आईपीएल में पंजाब के बल्लेबाजी कोच

घरेलू क्रिकेट में उनके अनुभव को देखकर वसीम जाफर को वसीम जाफर को इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में किंग्स इलेवन पंजाब का बल्लेबाजी कोच बनाया गया है. इस दौरान वह आईपीएल 2020 में पंजाब की टीम को बल्लेबाजी के गुर सिखाएंगे.