Gujarat Exclusive > राजनीति > पश्चिम बंगाल-असम में पहले चरण के लिए चुनाव प्रचार थमा, मिथुन ने किया रोड शो

पश्चिम बंगाल-असम में पहले चरण के लिए चुनाव प्रचार थमा, मिथुन ने किया रोड शो

0
347

West Bengal Elections 2021: पश्चिम बंगाल और असम विधानसभा चुनाव के पहले चरण के लिए होने वाली वोटिंग के लिए आज प्रचार थम गया. अब शनिवार 27 मार्च को इन दोनों राज्यों में पहले चरण के लिए मतदान होगा. West Bengal Elections 2021

बता दें कि बंगाल के पहले चरण की 30 सीटों के लिए 191 प्रत्याशी जबकि असम की 47 सीटों पर 267 उम्मीदवार किस्मत आजमा रहे हैं. West Bengal Elections 2021

यह भी पढ़ें: स्वेज नहर में फंसा विशाल मालवाहक जहाज, समुद्री यातायात ठप्प

मिथुन ने किया रोड शो

उधर अभिनेता से नेता बने मिथुन चक्रवर्ती इस बार के चुनाव में दमदार प्रचार अभियान में जुटे हुए हैं. हाल ही में मिथुन चक्रवर्ती भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) में शामिल हुए हैं. West Bengal Elections 2021

हालांकि मिथुन चक्रवर्ती को बीजेपी की ओर से टिकट नहीं मिली है. ऐसे में मिथुन चुनाव नहीं लड़ेंगे लेकिन चुनाव प्रचार में दमखम लगाए हुए हैं.  आज अभिनेता और बीजेपी नेता मिथुन चक्रवर्ती ने पश्चिम बंगाल चुनाव से पहले झाड़ग्राम में रोड शो किया. West Bengal Elections 2021

रोड शो में भारी भीड़ देखने को मिली. इस दौरान भीड़ को लेकर मिथुन ने कहा, ‘ये लोग यहां इसलिए आए हैं क्योंकि इनको बदलाव चाहिए. इतनी ज्यादा भीड़ का मतलब बहुत ज्यादा प्यार है.’ West Bengal Elections 2021

बंगाल में पहले चरण का मतदान

बंगाल में पहले चरण की 30 सीटें आदिवासी बहुल पुरुलिया, बांकुरा, झारग्राम, पूर्वी मेदिनीपुर (भाग-1) और पूर्वी मेदिनीपुर (भाग-2) जिलों में फैली हुई हैं. इन क्षेत्रों को एक समय वाम दलों के प्रभाव वाला माना जाता था. इन सीटों पर चुनाव प्रचार के दौरान सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख प्रतिद्वंद्वी बनकर उभरती दिख रही भाजपा के बड़े नेताओं ने पुरुलिया, झारग्राम और बांकुड़ा जिलों में रैलियों को संबोधित किया और ‘सोनार बांग्ला’ बनाने के लिए वास्तविक बदलाव लाने का वादा किया. West Bengal Elections 2021

असम के हालात

असम विधानसभा चुनाव में पहले चरण के लिए आज चुनाव प्रचार खत्म हो गया. यहां की 47 सीटों पर कुल 267 प्रत्याशी किस्मत आजमा रहे हैं. 47 सीटों में से 42 सीटें ऊपरी असम के 11 जिलों की हैं जबकि 5 सीटें सेंट्रल असम इलाके की शामिल हैं. इनमें सीटों पर हिंदू असमिया मतदाताओं के साथ-साथ चाय बगानों में काम करने वाले अनुसूचित जनजाति के मतदाताओं की भी निर्णायक भूमिका है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें