Gujarat Exclusive > देश-विदेश > वुहान में दिसंबर 2019 से पहले कोरोना फैलने के सबूत नहीं- डब्ल्यूएचओ

वुहान में दिसंबर 2019 से पहले कोरोना फैलने के सबूत नहीं- डब्ल्यूएचओ

0
292

WHO report on Covid-19: चीन के शहर वुहान से शुरू हुए कोरोना वायरस की उत्पत्ति को लेकर काफी समय से विवाद चल रहा है. कई जानकारों का कहना है कि यह वायरस बहुत पहले से ही लोगों के बीच मौजूद था. इसी बीच चीन से कोरोना महामारी फैलने की जांच के लिए पहुंची विश्व स्वासथ्य संगठन यानी डब्ल्यूएचओ की टीम ने कहा है कि वुहान में या कहीं और दिसंबर 2019 से पहले यह बीमारी बड़े पैमाने पर फैलने के कोई सबूत नहीं मिले हैं. WHO on Covid-19

ब्‍ल्‍यूएचओ और चीनी विशेषज्ञों के दल ने मंगलवार को बताया कि इस बात के सबूत मिले हैं कि वुहान हुन्नान के बाजार से अन्यत्र महामारी का प्रसार दिसंबर 2019 में ही हुआ. WHO on Covid-19

यह भी पढ़ें: एलन मस्क के रिकॉर्ड निवेश के बाद बिटकॉइन की कीमत में भारी उछाल

चीनी टीम के प्रमुख लियांग वेनिआन ने एक प्रेस कॉन्‍फ्रेंस  में कहा, ‘दिसंबर 2019 के पहले यहां के लोगों में Sars-Cov-2 के फैलने के कोई संकेत नहीं हैं.’ उन्‍होंने कहा कि इस बात के पर्याप्‍त साक्ष्‍य नहीं मिले कि इस अवधि से पहले भी यह वायरस शहर में फैला था. WHO के दल ने हाल ही में वुहान शहर का दौरा किया था. इस माह की शुरुआत में टीम, वुहान इंस्‍टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी भी पहुंची थी. कोरोना वायरस का पहला पहला चीन के वुहान से ही आया था. WHO on Covid-19

लैब से वायरस के फैलने के सबूत नहीं

गौरतलब है कि वुहान के इस लैब को कोरोना महामारी का स्रोत बताया गया था. इस लैब के वैज्ञानिक दुनिया की कई खतरनाक बीमारियों पर रिसर्च कर चुके हैं जिसमें कोविड-19 की तरह बेट कोरोना वायरस स्‍ट्रेन शामिल है. ऐसी अटकलें लगाई गई थी कि वायरस दुर्घटनावश वुहान के इसी लैब से लीक हुआ लेकिन इस थ्‍योरी की पुष्टि के लिए कोई पुख्‍ता सबूत नहीं हैं. WHO on Covid-19

डब्ल्यूएचओ के खाद्य सुरक्षा एवं जंतु रोग विशेषज्ञ पीटर बेन एम्बारेक ने कहा कि चीन की प्रयोगशाला से कोरोना वायरस के फैलने की आशंका नहीं है. रोगाणु वाहक प्रजातियों से इंसान तक इसके पहुंचने की सबसे ज्यादा आशंका है. WHO on Covid-19

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें