Gujarat Exclusive > गुजरात > महिला दिवस विशेष : मिलिए गुजरात की कानुबेन से, दूध बेचकर सालाना कमाती हैं करीब 1 करोड़ रुपये

महिला दिवस विशेष : मिलिए गुजरात की कानुबेन से, दूध बेचकर सालाना कमाती हैं करीब 1 करोड़ रुपये

0
675

हितेश चावड़ा, गांधीनगर: राज्य में बेरोजगारी और रोजगार के अवसरों में गिरावट के बीच एक ऐसी महिला हैं जो कभी स्कूल तो नहीं गईं, लेकिन दूध के बेचकर वह सालाना करीब एक करोड़ रुपये कमाती हैं. ‘विश्व महिला दिवस’ के मौके पर इस महिला की कहानी आपको प्रभावित कर सकती है, जिन्होंने अपनी कड़ी मेहनत और समर्पण से सफलता और महिला सशक्तीकरण का एक आदर्श उदाहरण पेश किया है. गुजरात के बनासकांठा के धानेरा के चारडा गांव की कानुबेन चौधरी दूध उत्पादन से सालाना 95 लाख रुपये कमाती हैं.

आज के युग में महिलाएं पुरुषों से कहीं से भी कम नहीं हैं और उसी का एक जीता जागता उदारण हैं 55 वर्षीय कानुबेन चौधरी, जो कभी स्कूल नहीं गईं. अब उन्होंने घर गृहस्थी और खेती के साथ-साथ पशुपालन की भी जिम्मेदारी उठा ली है. आलम ये है कि वह सालाना 95 लाख रुपये का दूध बेचती हैं. कानुबेन के पति और दो बेटे बनासकांठा जिले के धनेरा गांव के चारडा गांव में रहते हैं.

कानुबेन चौधरी ने अपने प्रयास के बारे में कहा, “20 साल पहले  हम कृषि पर निर्भर थे, लेकिन एक समय में चार भैंसें थीं जब खेती अच्छी थी और आय कम थी, लेकिन फिर हम दो एचएफ गायें लेकर आए और फिर खराब होते धंधे को संभाला और आज उसका फल मिला रहा है. वर्तमान में हमारे पास 40 भैंसें और 70 एचएफ गायें हैं जिससे हम बनास डेयरी में एक दिन में 1000 लीटर दूध देते हैं और सालाना 95 लाख रुपये कामते हैं.”

गुजरात में 18,000 गांव हैं, जहां 50 फीसदी से अधिक गांव खेती सहित दूध उत्पादन के व्यवसाय से जुड़ा हुआ है. इसमें विशेष और प्रमुख योगदान महिलाओं का है क्योंकि खेती और पशुओं के दूध उत्पादन के लिए आवश्यक श्रम महिलाएं सबसे आगे रही हैं. बनर्जी डेयरी के अध्यक्ष और गुजरात सरकार के पूर्व मंत्री शंकर चौधरी ने कानुबेन और देहातीवाद के उदय के बारे में कहा, “कानुबेन बहुत शिक्षित नहीं हैं, लेकिन उन्होंने अपने परिवार को बेरोजगारी के उबारने के लिए ऐसा शानदार काम किया है. करीब साढ़े तीन लाख ऐसी बहनें हैं, जो हर महीने जिले में पशुधन खेती के माध्यम से 650 करोड़ रुपये कमाती हैं. ये महिलाएं पशुपालन में दुनिया में सबसे आगे हैं और महिला सशक्तिकरण में उनका बहुत बड़ा योगदान है.

अहमदाबाद को CM रुपाणी का अद्भुत उपहार, हर्षोल्लास के साथ मिलेगा रोजगार का मौका