Gujarat Exclusive > गुजरात > सूरत में होटल-रेस्तरां में काम करने वाले मजदूर परेशान, 3 महीने से नहीं मिली सैलरी

सूरत में होटल-रेस्तरां में काम करने वाले मजदूर परेशान, 3 महीने से नहीं मिली सैलरी

0
4165

सूरत: देश भर में कोरोना वायरस के बढ़ते मामले की वजह से 3 मई तक देशव्यापी तालाबंदी लागू की गई है. लॉकडाउन की वजह से देश भर में लोग परेशान हैं. कोरोना लॉकडाउन के कारण सूरत में दिहाड़ी मजदूर जमकर हंगामा कर रहे हैं. इसी बीच खबर आ रही है कि सूरत के एक होटल में काम करने वाले मजदूरों को फरवरी से सैलरी नहीं दी गई है जिसकी वजह से मजदूर परेशान हैं.

3 महीने नहीं मिला वेतन

सूरत में रेस्तरां और होटलों में काम करने वाले मजदूरों को पिछले 3 महीनों से वेतन नहीं मिलने के कारण परेशान हो गए हैं. सूरत के चोपाटी से सहारा गेट तक इलाके में मौजूद रेस्तरां में काम करने वाले कई श्रमिकों को सैलरी नहीं दिया जा राह है. एक तो इन मजदूरों को फरवरी से कोई भुगतान नहीं किया गया दूसरा कोरोना वायरस की महामारी के बाद लागू लॉकडाउन की वजह से अब इनको दोहरी मार झेलनी पड़ रही है.

यदि श्रमिक वेतन की मांग करते हैं, तो उनको अपनी नौकरी से हाथ धोने का डर रहता है. जिसकी वजह से वह प्रबंधक से वेतन मांगने से डरते हैं. अन्य राज्यों से डायमंड सिटी सूरत में काम के लिए आने वाले मजदूर अपनी मजबूरी बता तो रहे हैं लेकिन उनकी कोई मदद नहीं की जा रही. लोगों को होटल में खाना खिलाने वाले इन मजदूरों को अब एक टाइम का खाना भी नसीब नहीं हो रहा. ये लोग सरकार से कोई मांग नहीं कर रहे बल्कि मांग कर रहे हैं कि इनको वक्त पर सैलरी दे दी जाए.

कोरोना रिपोर्ट -17: तालाबंदी की वजह से गुजरात में मिठाई और खोया उद्योग को 100 करोड़ रुपये का नुकसान