Gujarat Exclusive > गुजरात > गोपाल इटालिया को बड़ी जिम्मेदारी, ‘आप’ ने बनाया गुजरात का प्रदेश अध्यक्ष

गोपाल इटालिया को बड़ी जिम्मेदारी, ‘आप’ ने बनाया गुजरात का प्रदेश अध्यक्ष

0
307

गांधीनगर: गुजरात में स्थानीय निकाय चुनाव और 2022 में होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले आम आदमी पार्टी भी चुनावी मैदान में उतरने की कमर कस ली है.

जिसके तहत गोपाल इटालिया को गुजरात का प्रदेश अध्यक्ष के रूप में चुना गया है. Gopal Italia

गोपाल इटालिया को बड़ी जिम्मेदारी Gopal Italia

आम आदमी पार्टी दिल्ली की सत्ता पर अपनी पकड़ मजबूत बनाने के बाद कई अन्य राज्यों में अपना पैर पसार रही है. लोकसभा चुनाव में पार्टी पंजाब में अपने कुछ उम्मीदवारों को मैदान में उतारा था.

7 साल बाद आम आदमी पार्टी एक बार फिर गुजरात में सक्रिय होने जा रही है. गुजरात के युवा आइकन गोपाल इटालिया को AAP ने गुजरात का प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया है.

हम राजनीति के लिए नहीं, बल्कि राजनीति को बदलने के लिए कर रहे हैं काम

पिछले महीने, मुख्यमंत्री विजय रूपाणी के विधानसभा क्षेत्र में कई सामाजिक नेता और नागरिक आम आदमी पार्टी में शामिल हुए थे. इस मौके पर, गोपाल इटालिया ने कहा, “हमारी पार्टी ‘आप’ देश में राजनीतिक परिवर्तन लाने के लिए केजरीवाल के नेतृत्व में आगे बढ़ रही है.” Gopal Italia

दिल्ली सरकार के सुशासन से प्रभावित होकर विभिन्न क्षेत्रों में सामाजिक गतिविधियों में लगे लोग AAP में शामिल हो रहे हैं.

हमारी पार्टी राजनीति के लिए नहीं, बल्कि राजनीति को बदलने के उद्देश्य से काम कर रही है.

कौन हैं गोपाल इटालिया? Gopal Italia

भावनगर जिले के उमराणा तालुका के टिम्बी गांव के मूल निवासी गोपाल इटालिया ने राजनीति विज्ञान में स्नातक किया है. Gopal Italia

गोपाल इटालिया ने एक पुलिस कांस्टेबल के रूप में उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल को फोन किया और उनकी बातचीत का ऑडियो वायरल कर दिया था.

उसके बाद विधानसभा भवन के पास मीडिया को संबोधित कर रहे गृह मंत्री प्रदीपसिंह पर जूता फेंकने के बाद चर्चा में आ गए थे.

गोपाल इटालिया, दो बार अपनी सरकारी नौकरी छोड़कर पाटीदार अनामत आंदोलन में शामिल हुए थे. ऐसे में अब आम आदमी पार्टी ने इटालियों को बड़ी जिम्मेदारी दी है.

ऐसे में दिखना दिलचस्प होगा कि वह पार्टी को कितना मजबूत करेंगे?

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

गुजरात की दयनीय स्थिति, तालाबंदी के दौरान 21.8% घरों में नहीं जल पाया एक वक्त का चूल्हा